मोदी: ‘अखबारों के पन्नों से न मंत्री बनते हैं, ना ही पद जाते हैं’

एनडीए की दिल्ली में अहम बैठक में नरेंद्र मोदी को संसदीय दल का नेता चुन लिया गया। इससे पहले अमित शाह ने उनके नाम का प्रस्ताव रखा और सभी ने उनके नाम पर मुहर लगा दी।

 

lal_krishna_advani

लोकसभा चुनाव में प्रचंड बहुमत के बाद दिल्ली में एनडीए की संसदीय दल की बैठक संसद के सेंट्रल हाल में हुई । इस बैठक में एनडीए के सभी नवनिर्वाचित सांसद मौजूद थे। इस दौरान भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने नरेंद्र मोदी के नाम का प्रस्ताव रखा। सभी सांसदों ने नरेंद्र मोदी का समर्थन करते हुये उन्हें संसदीय दल का नेता चुन लिया। बैठक के बाद सरकार के गठन की प्रक्रिया को भी आगे बढ़ाया जाएगा। जानकारी के मुताबिक 30 मई को नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री पद की शपथ लेंगे। इस दौरान मोदी ने सांसदों को संबोधित भी किया।

नरेंद्र मोदी ने कहा जनता ने मुझे सेवा के लिए चुना है। सेवा भाव से बड़ा कुछ नहीं हो सकता है। उन्होंने कहा प्रचंड जनादेश जिम्मेदारियों को बढ़ाता है। मैं सभी सांसदों के बराबर, मिलकर साथ चलना चाहता हूं। मोदी ने कहा कि 2019 के चुनाव ने दीवारों को तोड़ा है। और दिलों को जोड़ने का काम किया है। ये चुनाव सामाजिक एकता का आंदोलन बन गया।

2014 से 2019 तक देश हमारे साथ चला है, कभी-कभी हमसे दो कदम आगे चला है, इस दौरान देश ने हमारे साथ भागीदारी की है। इससे पहले पीएम मोदी ने कहा कि एनडीए के भी सभी वरिष्ठ साथियों ने आशीर्वाद दिए हैं और आप सबने मुझे नेता के रूप में चुना है। मैं इसे एक व्यवस्था का हिस्सा मानता हूं। मैं भी बिलकुल आप में से एक हूं, आपके बराबर हूं। हमें कंधे से कंधा मिलाकर चलना है। एनडीए की यही तो ताकत है, विशेषता है।

Electing_PM_Modi_as_the_leader_of_the_NDA

मोदी ने दी नये सांसदों को सलाह

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि बड़बोले बयानों से बचना चाहिये। छपास और दिखास से बचना जरूरी है। किसी के बोलने से हमारी परेशानी बढ़ती है। दुनिया में कुछ भी ऑफ रिकॉर्ड नहीं होता। उन्होंने कहा कि मंत्रियों के मीडिया में चल रहे नाम झूठे हैं। अखबार के पन्नों से ना मंत्री बनते हैं ना मंत्री पद चले जाते हैं। ऐसी बातों पर भरोसा ना करें।

पीएम मोदी ने मौजूद सभी सांसदों और नेताओं से कहा, ‘दिल्ली में आकर अच्छे-अच्छे फंस जाते हैं’। कोई भी मंत्री बनने के नाम पर बहकावे में न आए। वीआईपी कल्चर से बचकर रहने की भी जरूरत है’। पीएम ने कहा, एनडीए के पास दो जरूरी चीजें हैं, पहला एनर्जी और दूसरा सिनर्जी’। ये एनर्जी और सिनर्जी एक ऐसा केमिकल है, जिसको लेकर हम सशक्त और सामर्थ्यवान हुए हैं, जिसको लेकर हमें आगे चलना है।

नीतीश कुमार, प्रकाश सिंह बादल और उद्धव ठाकरे ने मोदी के नाम का समर्थन किया। मोदी को पहले ही एनडीए का नेता घोषित किया जा चुका है, ऐसे में इस बैठक को एक तरह से औपचारिकता माना जा रहा है। गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव में बीजेपी 303 सीटें जीत चुकी है और एनडीए राजग गठगबंधन को 352 सीटें हासिल हुई है। ऐसी खबर भी है कि नरेंद्र मोदी 30 मई को प्रधानमंत्री पद की शपथ लेंगे।

बता दें कि गुरुवार को आए चुनाव नतीजों में बीजेपी ने इतिहास रचा है। बीजेपी ने अकेले ही 303 सीटों पर जीत दर्ज की है। जबकि एनडीए ने 350 सीटों पर अपना परचम लहराया है। वहीं, कांग्रेस ने पिछली बार से मात्र आठ सीटें ही ज्यादा जीती हैं। कांग्रेस को इस बार कुल 52 सीटों पर जीत दर्ज मिली है।

यूपी-उत्तराखंड के मुख्यमंत्री भी होंगे शामिल
एनडीए की बैठक में उत्तर प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ और उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत भी शामिल होंगे। दोनों मुख्यमंत्री आज सुबह दिल्ली पहुंचेंगे।

 

Originally Published At: एबीपी गंगा