आपदाओं से निपटने के लिए सबको साथ लेकर चलने वाली नमो सरकार

सबका साथ सबका विश्वास  मोदी सरकार का ये महज एक मंत्र सुनाने के लिए नही है बल्कि आज देश में हो रहे कामो को देखकर यही लगता है कि सरकार इस मंत्र को साकार रूप भी दे रही है। तभी तो पिछले पाँच महीनो में कोरोना महामारी को लेकर मोदी सरकार ने सभी राज्यो के सीएम के साथ 7 बार बैठक की है। तो किसी भी राज्य में कोई आपदा आती है तो उस राज्य के सीएम के साथ चर्चा करके ही मोदी सरकार जन-जन तक सुविधा पहुंचाने का काम करती है।

कोरोना महामारी से निपटने के लिए हर राज्य को लेकर बनाई योजना

आज दुनिया भी ये मान रही है कि जिस तरह से कोरोना से निपटने के लिए भारत ने तैयारी की उसका ही असर है कि ये महामारी भारत में उतनी तेजी से नही फैली जिसकी आशंका लगाई जा रही थी। इसके पीछे बस एक वजह है पीएम मोदी का नेत्तृव जिसने समय रहते ऐसे कदम उठाये कि आज महज कुछ राज्यों तक ही कोरोना सिमट कर रह गया है। ऐसा इसलिये हो सका क्योंकि मोदी जी ने हर राज्य के सीएम के साथ मिलकर कोरोना से निपटने की तैयारी कि इस दौरान पीएम ने 7 बार देश के अलग अलग राज्यों के सीएम के साथ मिलकर बैठक की और जायजा लिया। पीएम की संवेदशीलता इसी से लगाई जा सकती है कि उन्होने कोरोना से निपटने के लिए दलगत सियासत से उठकर काम किया और हर बार यही बोला कि हम सब मिलकर कोरोना से लड़ेंगे तो देश जीत जाएगा।

बाढ़ ग्रस्त इलाकों को लेकर पीएम मोदी ने राज्यों के साथ की समीक्षा

कोरोना के बाद देश के अधिकतर राज्यों में बाढ़ का भी प्रकोप जारी है। ऐसे में इससे निपटने के लिए पीएम मोदी का मंत्र फिर से जमीन पर दिख रहा है और वो है सबका साथ सबका विश्वास जिसके चलते पीएम ने उन राज्यों के सीएम से बात भी की और बाढ़ से निपटने के लिए मदद का ऐलान भी किया इतना ही नही पीएम मोदी लगता है वो पहले पीएम होंगे जो किसी भी समस्या को लेकर अपने विचार नही थोपते बल्कि सभी के विचार के बाद निपटने का रास्ता खोजकर आगे बढ़ते हैं इसीलिये तो उन्होने बाढ़ को लेकर अब एक नया रोडमैप तैयार करने की बात कही है। जिससे आने वाले दिनो में बाढ़ आने का खतरा कम से कम हो।

कुल मिलाकर जब-जब राज्यों में कोई छोटी सी भी आपदा आई है पीएम मोदी एंड कंपनी राज्य के साथ खड़ी दिखी है। सिर्फ कागजो में ही नही बल्कि जमीन पर उतरकर काम करते हुए भी दिखाई दी है। तभी तो आलम ये है कि भारत की तस्वीर अब बदल रही है और देश में समस्या का तेजी के साथ हल निकल रहा है। शायद देश यही तो चाहता था तभी तो पीएम मोदी के रूप में उन्हे सत्ता सभांलने की कमान सौंपी है। जिससे बरसो पुरानी कवायद बदले और नये तरीके से देश विकास के रास्ते पर आगे चले।