कोरोना से जंग जीतने के लिए साल 2021 का नमो मंत्र

साल 2020 बस कुछ पल का बेहमान रह गया है नये साल में नये तेवर और जोश के साथ हमे आगे बढ़ना है कुछ यही बात आज पीएम मोदी ने देशवासियों के सामने रखी और कोरोना से निपटने के लिए साल 2021 का नया मंत्र भी मोदी जी ने दिया और ये भी बताया कि कैसे आपदा के वक्त भारत की एकजुटता ने उबारा ।

एकजुटता ने मुश्किल समय से निकाला: पीएम

कोरोना महामारी से जंग में हम आगे अगर रहे तो उसका सबसे बड़ा कारण ये था कि देश में सभी ने एक स्वर में इससे लड़ने की ताकत दिखाई और ये बताया कि भारत जब एकजुट होता है तो मुश्किल से मुश्किल संकट का सामना वो कितने प्रभावी तरीके से कर सकता है। भारत ने एकजुटता के साथ समय पर प्रभावी कदम उठाए, उसी का परिणाम है कि आज हम बहुत बेहतर स्थिति में हैं। जिस देश में 130 करोड़ से ज्यादा लोग हों, घनी आबादी हों वहां करीब 1 करोड़ लोग इस बीमारी से लड़कर जीत चुके हैं जो एक बड़ी कामयाबी है।

पीएम मोदी ने दिया 2021 के लिए खास मंत्र

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में कहा, ‘पहले में कहता था दवाई नहीं तो ढिलाई नहीं। आज मैं कहता हूं कि दवाई भी और कड़ाई भी. उन्होंने आगे कहा, “साल 2020 में संक्रमण की निराशा थी, चिंताएं थी और चारों तरफ सवालिया निशान थे। लेकिन 2021 इलाज की आशा लेकर आ रहा है। वैक्सीन को लेकर भारत में हर जरूरी तैयारियां चल रही हैं जिसे जल्द  शुरू किया जायेगा। सरकार ने इसके लिये पूरी तरह से योजना भी बना चुकी है।“

पीएम मोदी ने वॉरियर्स को किया याद

पीएम मोदी ने कहा, ‘स्वास्थ्य पर जब चोट होती है तो जीवन का हर पहलू बुरी तरह प्रभावित होता है और सिर्फ परिवार नहीं पूरा सामाजिक दायरा उसकी चपेट में आ जाता है. इसलिए साल का ये अंतिम दिन भारत के लाखों डॉक्टर्स, हेल्थ वॉरियर्स, सफाई कर्मियों, दवा दुकानों में काम करने वाले, और दूसरे फ्रंट लाइन कोरोना वॉरियर्स को याद करने का है. कर्तव्य पथ पर जिन साथियों ने अपना जीवन दे दिया है, उन्हें मैं सादर नमन करता हूं.’

कहते है न बीती बात को भुलाकर अब नये काम के लिए हमे लगना है और वो भी नये जोश खरोश के साथ इसके लिए पीएम मोदी ने एक बार फिर से देशवासियों को प्रेरणा दी है यानी की अब नये भारत को बनाने के लिए हमे बस आगे बढ़ने के लिए तैयार रहना होगा।