UNGA के 74 वर्ष के इतिहास में सिर्फ 4 महिलाओं ने संभाली है कुर्सी, पहली महिला अध्यक्ष पंडित नेहरू की बहन थीं

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 27 सितंबर 2019 को संयुक्त राष्ट्र महासभा के 74वें सत्र को संबोधित किया। सितम्बर में शुरू होने वाले संयुक्त राष्ट्र महासभा के 74वें सत्र की अध्यक्षता नाइजीरिया के स्थाई प्रतिनिधि तिजानी मोहम्मद-बांडे ने किया।

लेकिन क्या आप जानतें हैं कि यूएनजीए में अब तक केवल चार महिलाएं ही अध्यक्ष बनी हैं? और इनमें पहली महिला अध्यक्ष भारतीय थीं। आइये जानते हैं- इन चार महिला अध्यक्षओं के बारे में:

Vijay-Laxmi-Pandit-With-Pandit-Nehru

भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू की बहन एवं पूर्व भारतीय राजनयिक विजय लक्ष्मी पंडित वर्ष 1953 में संयुक्त राष्ट्र महासभा की अध्यक्ष निर्वाचित होने वाली पहली महिला थीं। 1954 तक इस पद पर रहीं विजयलक्ष्मी यूनाइटेड किंगडम में भारत की उच्चायुक्त (1954 से 1961) भी रही थीं। वे राज्यपाल और राजदूत जैसे कई महत्त्वपूर्ण पदों पर रहीं थीं। ब्रिटिश राज के दौरान किसी कैबिनेट पद पर रहने वाली प्रथम महिला विजयलक्ष्मी पंडित ही थीं। विजयलक्ष्मी ने अपनी भतीजी और तत्कालीन भारतीय प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी द्वारा लगाए गए आपातकाल (1975) का विरोध किया था और जनता दल में शामिल हो गईं थी। 18 अगस्त 1900 को पैदा हुई, विजय लक्ष्मी का निधन एक दिसंबर 1990 को देहरादून में हुआ था।

Angie-Elizabeth-Brooks

इनके बाद लाइबेरिया की एंजी एलिजाबेथ 1969 में जबकि बहरीन की शेखा हया राशिद आल खलीफा 2006 में इस पद पर चुनी गई थीं। एंजी एलिजाबेथ को वर्ष 1969 में संयुक्त राष्ट्र महासभा के 24वें सत्र के लिए अध्यक्ष चुना गया था। 24 अगस्त 1928 को जन्मी एंजी एलिजाबेथ का निधन 9 सितंबर 2007 में हुआ था। वह इस पद पर पहुंचने वाली अफ्रीकी मूल की एक मात्र महिला रही हैं। 1954 में वह यूनाइटेड नेशन में लाइबेरिया की तरफ से स्थायी सदस्य बनीं और 1977 तक उन्होंने इस जिम्मेदारी को बखूबी संभाला। उनके सम्मान में लाइबेरिया की राजधानी मोनरोविआ में एंगी ब्रूक्स इंटरनेशनल सेंटर बनाया गया है।

George_W._Bush_and_Haya_Rashed_Al_Khalifa

शेखा हया राशिद का जन्म 18 अक्टूबर 1952 को हुआ था। उनकी गिनती बहरीन की प्रख्यात महिला वकील और राजनयिकों में होती है। वह वर्ष 1999-2004 के फ्रांस में बहरीन की राजदूत भी रही हैं। वह बहरीन की पहली महिला राजदूत थीं।

Maria Fernanda Espinosa

इस वैश्विक संस्था के इतिहास में इस पद पर निर्वाचित होने वाली चौथी महिला और लातिन अमेरिका तथा कैरेबियाई क्षेत्र की पहली महिला अध्यक्ष मारिया फर्नांडा एस्पिनोसा गारसेस थी। 7 सितंबर 1964 को जन्मीं मारिया 2018 में महासभा की 73वीं सत्र के लिए अध्यक्ष चुनी गईं थीं। मारिया, यूएनजीए की पहली महिला अध्यक्ष विजय लक्ष्मी पंडित से बहुत प्रभावित थीं। वह इक्वाडोर की पूर्व विदेश मंत्री भी रही हैं।

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •