Myth Vs Fact: कोवैक्सीन पर फैलाया गये भ्रम की भी हवा निकल गई

देश में गजब सियासत देखी जा रही है हर दिन एक झूठ तेजी के साथ देश में फैलता है और उसी दिन उस झूठ की पोल खुल जाती है। मजे की बात तो ये है कि ये सिलसिला पिछले कई सालो से देखा जा रहा है। राफेल विमान से लेकर गाजियाबाद में एक समुदाय के बुजुर्ग पर झूठी खबर से तो आप रूबरू हुए ही होगे। लेकिन आज एक तो हद हो गई जब देशवासियों के सामने एक झूठ वैक्सीन को लेकर फैलाया गया । सोशल मीडिया में कोवैक्सिन को लेकर कुछ लोगों ने गंभीर आरोप लगाते हुए बोला कि इसमें गाय के बछड़े का सीरम मिलाया जाता है जो एक और बड़ा झूठ है।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने आरोप को किया खारिज

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय  ने बुधवार को एक बयान जारी करके कहा कि सोशल मीडिया की कुछ पोस्ट में तथ्यों को तोड़ मरोड़ कर और गलत ढंग से पेश किया गया है कि देश में बनाई गई कोवैक्सीन में नवजात बछड़े का सीरम है। मंत्रालय ने कहा कि नवजात बछड़े के सीरम का इस्तेमाल केवल वेरो कोशिकाएं  तैयार करने और उनके विकास के लिए ही किया जाता है। गोवंश और अन्य जानवरों से मिलने वाला सीरम एक मानक संवर्धन संघटक  है, जिसका इस्तेमाल पूरी दुनिया में वेरो कोशिकाओं के विकास के लिए किया जाता है। वेरो कोशिकाओं का इस्तेमाल ऐसी सेल्स बनाने में किया जाता है जो वैक्सीन बनाने में मददगार होती हैं। पोलियो, रैबीज और इन्फ्लुएंजा के टीके बनाने के लिए इस तकनीक का दशकों से इस्तेमाल होता आ रहा है।विरो कोशिकाओं के विकसित होने के बाद उन्हें पानी और रसायनों से अच्छी तरह से अनेक बार साफ किया जाता है जिससे कि ये नवजात बछड़े के सीरम से मुक्त हो जाते हैं। इसके बाद वेरो कोशिकाओं को कोरोनावायरस से संक्रमित किया जाता है ताकि वायरस विकसित हो सके। इस प्रक्रिया में वेरो कोशिकाएं पूरी तरह से नष्ट हो जाती हैं। इसके बाद विकसित वायरस को भी नष्ट और साफ किया जाता है। नष्ट किए गए वायरस का इस्तेमाल आखिरकार टीका बनाने के लिए किया जाता है

टाइम आ गया है कि लोग घर में भी मास्क पहनना शुरू कर दें', बढ़ते कोरोना संकट पर नीति आयोग की सलाह | Start wearing masks at home also said niti ayog

बस रोज छोड़ दो झूठ का एक तीर

इस वक्त देश में कुछ उन लोगों की संख्या बहुत ज्यादा हो गई है जो हर दिन झूठ का एक तीर सोशल मीडिया मे फेंक देते है जिसके बाद बस दिनभर उनके खास चेले इसी पर हायतौबा मचाते रहते है। जबकि हकीकत कुछ देर में बी बाहर निकलकर सामने आ जाता है। ऐसा पिछले कई सालो से लगातार देश देख रहा है ऐसे में एक सवाल जरूर उठता है कि सरकार के बीते 7 सालो में देश में कई तरह की आपदा से निपट रहा है लेकिन इसके बाद भी सरकार विरोधी लोगों को सरकार के खिलाफ कोई मुद्दा नही मिल रहा तभी तो बस वो रोज झूठ का तीर चलाते है औऱ व कुछ देर में फुस हो जाता है।