मुंबई हमले के मास्टरमाइंड, हाफिज सईद के साले को पाकिस्तान ने गिरफ्तार किया

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

abdul-makki

मुंबई आतंकी हमले के मारटरमाइंड और प्रतिबंधित संगठन जमात-उद-दावा के संस्थापक हाफिज सईद का साला अब्दुल रहमान मक्की पाकिस्तान में गिरफ्तार हो गया है। अब्दुल रहमान मक्की की गिरफ्तारी पंजाब प्रांत के गुजरांवाला से हुई है|

अब्दुल रहमान मक्की, की गिरफ्तारी मेंटेनेंस ऑफ पब्लिक ऑर्डर एक्ट के तहत की गई है। मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि फाइनेंशल एक्शन टास्ट फोर्स (एफएटीएफ) के दिशा निर्देशों के तहत सरकार जो कदम उठा रही है, मक्की ने उनकी आलोचना की थी। मक्की की गिरफ़्तारी जमात-उद-दावा (जेयूडी), फलाह-ए-इंसानियत फाउंडेशन (एफआईएफ) और जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम) से जुड़े 11 संगठनों पर बैन लगने के कुछ दिन बाद हुई है| उसे फिलहाल लाहौर की जेल में रखा गया है|

मक्की भारतके खिलाफ जेहर उगलने के लिए भी अक्सर चर्चा में रहता है, उसने पुणे के जर्मन बेकरी में धमाके के आठ दिन पहले मुजफ्फराबाद में भाषण दिया था और पुणे समेत भारत के तीन शहरों में आतंकी हमले करने की धमकी दी थी| भारत की मांग पर अमेरिका ने मक्की को आतंकी घोषित किया था|

अब बात उठती है पाकिस्तान आखिर आतंकवाद के खिलाफ इतनी कार्यवाई क्यूँ कर रहा है –

पुलवामा हमले के बाद जिस तरह से भारत ने संयुक्त राष्ट्र पर दबाव बनाया, उसके बाद चाइना जो की हमेशा मसूद अजहर को बचाता रहता था, उसे भी संयुक्त राष्ट्र की बात मानते हुए मसूद अजहर को आतंकी घोषित करना पड़ा|

 

hafiz_saeed

2 मई 2019 को मसूद अजहर को आतंकी घोषित करने के बाद, पाकिस्तान ने 11 आतंकी संगठनों को बैन कर दिया| ये सब भारत की कुटनीतिक और विदेशी नीतियों का ही प्रभाव है| नरेन्द्र मोदी ने जो कहा वो कर के दिखाया, अपने भाषण में नरेन्द्र मोदी ने कहा था “घर में घुस कर मारेंगे” और किया भी उन्होंने वही|

उतने सालों से खामोश रही पाकिस्तानी सरकार को भी आखिर सामने आना पड़ा, और वहां के वर्तमान प्रधानमंत्री इमरान खान ने पुलवामा हमले के बाद ही बोला था “कि अब किसी भी अन्य देश पर हमला करने के लिए ये आतंकी संगठन पाकिस्तान की धरती का इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे|”

अब ये तो वक्त ही बताएगा की पाकिस्तान की ये कार्यवाई सच में आतंक के खात्मे की तरफ बढाया हुआ कदम है या दुनिया को मुर्ख बनाने को एक और नया शिगूफा| बहरहाल पाकिस्तान की ये कार्यवाई एक स्वागतयोग्य कदम है|

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •