प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के लाभार्थियों ने पैदा किये एक करोड़ से अधिक नए रोजगार

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

PMMY

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में देश में स्वरोजगार को बढ़ावा देने के लिए शुरू की गई मुद्रा योजना के कारण युवा जॉब सीकर की जगह जॉब क्रिएटर बन रहे हैं। मुद्रा योजना से रोजगार को बढ़ावा मिलने से योजना के लाभार्थियों ने एक करोड़ से ज्यादा रोजगार सृजित किए हैं।

More than one crore new jobs created by beneficiaries of  PMMY

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत कर्ज लेने वाली इकाइयों ने 28 फीसदी नए रोजगार पैदा किए हैं। इस योजना से लाभान्वित इकाइयों में कार्यरत श्रमिकों की संख्या बढ़कर 5.04 करोड़ हो गई। मुद्रा योजना के तहत कर्ज लेने के पहले इन इकाइयों में रोजगार पाने वाले लोगों की संख्या करीब 3.93 करोड़ ही थी। मुद्रा योजना की समीक्षा के लिए कराए गए एक आधिकारिक सर्वेक्षण से यह आंकड़ा सामने आया है।

सरकार ने हुनरमंद हाथों को प्रोत्साहन देने और उनके हाथों को काम देने के लिए अप्रैल 2015 में छोटे कारोबारियों की कर्ज जरूरत पूरी करने के लिए 10 लाख रुपये तक के ऋण देने वाली यह योजना शुरू की थी। इसका मकसद हुनरमंद लोगों के बीच स्वरोजगार को बढ़ावा देना था।

रिपोर्ट के मुताबिक, वर्ष 2015 से लेकर 2018 के बीच मुद्रा योजना के तहत बांटे गए कर्जों ने कुल 11.2 करोड़ नए रोजगार पैदा किए। यह संख्या स्वरोजगार में लगे लोगों की 55 फीसदी है। मुद्रा योजना के तहत आवंटित ऋणों ने 51 लाख नए उद्यमी भी तैयार किए। हालांकि यह संख्या सरकार के अनुमानों से काफी कम है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गत फरवरी में संसद में कहा था कि 4.25 करोड़ नए उद्यमियों ने इस योजना के तहत कर्जे लिए हैं जिनसे बड़ी संख्या में रोजगार पैदा हुए हैं।

साहूकारों से मिली मुक्ति

मुद्रा योजना शुरू होने से पहले ऊंची पहुंच वालों को तो लोन आसानी से मिल जाया करते थे, लेकिन छोटे कारोबारियों को साहूकारों के चक्कर लगाने पड़ते थे। साहूकारों का ब्याज देने के चक्कर में उनकी पूरी जिंदगी ब्याज के कर्ज में डूब जाती थी। मुद्रा योजना ने उद्यमियों को ब्याजखोर लोगों से बचाया है। नरेंद्र मोदी की सरकार मुद्रा योजना से उद्यमियों के सपनों को साकार कर रही है। केंद्र सरकार ने छोटे उद्यम शुरू करने के लिए प्रधानमंत्री मुद्रा योजना (PMMY) शुरू की है।

कारोबार के लिए मुद्रा लोन से 10 लाख तक का लोन

प्रधानमंत्री मुद्रा लोन योजना के अंतर्गत कोई भी व्यक्ति जो व्यवसाय करना चाहता हैं या फिर अपने व्यवसाय को आगे बढ़ाना चाहता हैं, उसको सरकार मुद्रा लोन दे रही हैं। इस योजना का लाभ भी कोई भी व्यक्ति आसानी से ले सकता हैं। मुद्रा योजना के अंतर्गत 10 लाख रुपए तक का लोन आसानी से ले सकते हैं और अपने कारोबार को बड़ा कर सकते हैं। मुद्रा लोन को तीन श्रेणी में बांटा गया है:

शिशु लोन– शिशु ऋण के तहत 50 हज़ार तक के ऋण दिए जा सकते हैं।

किशोर लोन- किशोर ऋण के तहत 50 हज़ार के ऊपर और 5 लाख रुपए तक के ऋण भी दिए जा सकते हैं।

तरुण लोन- तरुण लोन के तहत 5 लाख रुपय से ऊपर और 10 लाख रुपए तक के ऋण दिए जा सकते हैं।

सरकार का स्पष्ट उद्देश है की हुनरमंद हाथों को रोजगार के अवसर और धन उपलब्ध करवा करके देश के विकास में योगदान सुनिश्चित की जाये।


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •