कोरोना के खिलाफ जंग मे उतारे गये 31 हजार से ज्यादा डॉक्टर

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

कोरोना वायरस की लड़ाई में 31 हजार से ज्यादा डॉक्टर जुटेंगे जिसमें सरकारी सेवानिवृत और सशस्त्र सेना चिकित्सा सेवा के भी डॉक्टर शामिल हैं। इसके अलावा निजी फिजीशियन भी कोविड-19 के खिलाफ मुहिम में सरकार का साथ देंगे। 

 25 मार्च को सरकार ने इन डॉक्टरों से कोरोना वायरस के खिलाफ मुहिम में शामिल होने को कहा था। अधिकारियों ने बताया कि करीब 30 हजार वालंटियर डॉक्टर जिसमें सेवानिवृत सरकारी, सशस्त्र सेना चिकित्सा सेवा के डॉक्टर और निजी प्रैक्टिस करने वाले डॉक्टर इस मुहिम में जुड़ेंगे।   

नीति आयोग की वेबसाइट में 25 मार्च को प्रकाशित एक बयान में सरकार ने कहा था कि जो भी डॉक्टर और चिकित्साकर्मी कोरोना के खिलाफ लड़ाई में मुहिम से जुड़ना चाहते हैं तो वे इस वेबसाइट पर पंजीकरण करवा सकते हैं। 

अबतक 86 की मौत

बता दें कि देश में कल से लेकर आज तक कोरोना वायरस के 336 नए मामले सामने आए हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि इस जानलेवा वायरस से अब तक 3000 लोग संक्रमित हो चुके है और 86 लोगों की मौत हुई है। इन 86 मौतों में से 12 मौतें कल हुई हैं। इस जानलेवा वायरस से अब तक 157 मरीज पूरी तरह ठीक हुए हैं।  

उम्मीद है इन नये डॉक्टरों के आने से स्थिति नियंत्रण मे आएगी | प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व मे सरकार अपने नागरिकों को सुरक्षित रखने मे कोई कसर नहीं छोड़ रही है | भारतीय सेना ने भी कहा है कि जरूरत पड़ने पर सेना के डॉक्टर भी आम जनता के लिये उपलब्ध होंगे |

इस्तेमाल करें घर पर बना मास्क

कोरोना वायरस के मामलों में तेजी आने के साथ ही केंद्र सरकार ने शनिवार को एक परामर्श जारी कर कोविड-19 का प्रसार रोकने के लिये लोगों से “घर पर बना मास्क” लगाने को कहा है खास तौर पर तब जब वे घरों से बाहर निकलें।‘चेहरे और मुंह के बचाव के लिये घर में बने सुरक्षा कवर के इस्तेमाल पर परामर्श’ में सरकार ने कहा कि ऐसे मास्क के इस्तेमाल से बड़े पैमाने पर समुदाय का बचाव होगा और कई देशों ने घर में बने मास्क के आम लोगों के लिये फायदेमंद होने का दावा किया है।

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •