आर्थिक क्षेत्र मे भारत की उड़ान जारी : मूडीज ने माना 7.5 रहेगी भारत की विकास दर

  • 167
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

विदेश मे राहुल गांधी मोदी सरकार की नीतियों को लेकर कितना भी तंज कसे लेकिन विदेशी एंजेसिया मोदी नीति की मुरीद दिख रही हैं तभी तो विश्व की ज्यादातर एजेंसियां  भारत मे हो रहे आर्थिक विकास को लेकर पॉजिटिव रिएक्शन ही दे रही है। मूडीज इनवेस्टर सर्विस की माने तो भारत की  आर्थिक विकास दर 2018 और 2019 में 7.5 फीसदी रह सकती है। तेल की ऊंची कीमत जरूर चुनौती है लेकिन भारत ऐसे बाहरी दबाव से पार पाने में काफी हद तक सक्षम है.

आर्थिक मोर्चे पर भारत होगा और मजबूत

वित्त वर्ष 2018-19 के लिये अपने वैश्विक वृहत परिदृश्य में मूडीज ने कहा कि पिछले कुछ महीनों से एनर्जी के दाम में बढ़त से ग्रॉस करेंसी अस्थायी रूप से बढ़ेगी लेकिन भारत की विकास की कहानी मजबूत बनी हुई है. इसका कारण मजबूत शहरी और ग्रामीण मांग है और इंडस्ट्रियल गतिविधियों में सुधार है।

मूडीज इनवेस्टर सर्विस ने अपनी रिपोर्ट में कहा, ‘‘जी-20 की कई अर्थव्यवस्थाओं में विकास की संभावना मजबूत बनी हुई है लेकिन इस बात के संकेत हैं कि 2018 में विकास की प्रवृत्ति अलग-अलग रह सकती है. ज्यादातर विकसित अर्थव्यवस्थाओं के लिये अल्पकाल में वैश्विक परिदृश्य मजबूत बना हुआ है. वहीं दूसरी तरफ अमेरिका की तरफ से बढ़ते व्यापार संरक्षणवाद, नकदी की कड़ी स्थिति और तेल के ऊंचे दाम के कारण कुछ विकासशील अर्थव्यवस्थाओं की स्थिति थोड़ी कमजोर है.’

विकास मे जारी रहेगी उछाल

मूडीज ने 2018 के लिये जी-20 देशों की विकास दर 3.3 फीसदी और 2019 में 3.1 फीसदी रहने का अनुमान है. विकसित अर्थव्यवस्थाओं की विकास दर 2018 में 2.3 फीसदी और 2019 में 2 फीसदी रहने का अनुमान है. वहीं जी-20 में शामिल उभरते बाजार 2018 और 2019 में 5.1 फीसदी विकास के साथ आर्थिक विकास का नेतृत्व करेंगे. उसने कहा, ‘हमारा अनुमान है कि भारतीय अर्थव्यवस्था की विकास दर 2018 और 2019 दोनों वर्ष में 7.5 फीसदी रहेगी।

मोदी सरकार की कुशल नीतियों का असर

मोदी सरकार की कुशल आर्थिक  नीतियों का ही असर है कि भारत आर्थिक क्षेत्र मे लगातार मजबूत हो रहा है। इसके पीछे कारण मे जाये तो पिछले चार साल मे मोदी सरकार के वक्त मे कोई भी घोटाला नही हुआ है तो मेक इन इंडिया, स्टार्ट अप योजना और व्यवसाये के कानूनो मे मिले छूट के चलते देश मे विदेशी इन्वेस्टर  का विश्वास बड़ा हैं। साथ ही साथ जीएसटी और नोटबंदी के बाद देश मे काले धन पर नकेल कसी है जिससे देश मे मुद्रा भंडारण मे इजाफा देखा गया है।

 

मतलब साफ है कि देश लगातार आर्थिक तौर पर मजबूत हो रहा हैं यही वजह है कि आज हम विश्व की छठें नबंर की  सबसे मजबूत आर्थिक व्यवस्था बनते जा रहे है। यानी कि हमारी दिशा  सही  तरफ है और वो दिन दूर नही जब हम विश्व मे भारत एक बार फिर से सोने की चिड़िया वाला तमंगा हासिल कर लेगा।


  • 167
  •  
  •  
  •  
  •  
  •