मिशन कश्मीर पर मोदी के मंत्री

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

धारा 370 घाटी से हटने के बाद से ही कश्मीर की फिजाओं में अमन की बहार देखी जा रही है। छोटे शहर हो या गांव हर जगह आतंक का नाम खत्म हो रहा है और प्रदेश के लोग विकास की तरफ बढ़ रहे है। खासकर युवाओं के जेहन में भारत के प्रति सोच बदली है। इसी माहौल को समझने के लिए भारत सरकार के 36 मंत्रियों का एक दल घाटी के हालात जानने के लिए पहुंचा है।

मोदी सरकार के 36 मंत्री घाटी में- कश्मीर में आज बम धमाको की आवाज नहीं बल्कि कश्मीरियत के गीत सुनाई दे रहे है। बंदूक आग नहीं बरपा रही है, बल्कि फिजाओं में शांति की महक फैली हुई है। जम्हूरियत एक सुर में अमन के स्वर को गा रही है, तो इसके साथ साथ मोदी जी के विकास की योजना की शुरूआत के लिए रोडमैप तैयार हो रहे है। इसी हालात को जानने के लिये और कश्मीर की आवाम में ये विश्वास पैदा करने के लिये कि मोदी सरकार उनके साथ है, मोदी कैबिनेट के 36 मंत्रियों का एक दल घाटी पहुंचा है। अपनी घाटी यात्रा के दौरन ये कश्मीर के हालात का तो जायजा लेगे, साथ ही कश्मीर के लोगों को CAA के बारे में भी बतायेगे जिससे घाटी में जो भ्रम की स्थिति बनी हो वो दूर हो सके। 36 केंद्रीय मंत्री जम्मू-कश्मीर के 60 स्थानों का दौरा करेंगे। नई दिल्ली में हुई मंत्री परिषद की बैठक में प्रधानमंत्री ने मंत्रियों से कहा कि वे स्थानीय लोगों से संवाद के दौरान विकास का संदेश भी फैलाएं।

घाटी में विकास की बहार शुरू हुई– मोदी सरकार कश्मीर में अमन के साथ साथ विकास की गाथा तेजी के साथ लिख रही है। केंद्र सरकार ने कश्मीर में विकास के लिये 80 हजार करोड़ का विशेष पैकेज भी दिया है। इतना बड़ा पैकेज कभी भी किसी भी सरकार ने नहीं दिया था। दूसरी ओर आज कश्मीर के हर शहर और गांव गांव तक बिजली पहुंच चुकी है। तो उज्जवला योजना के चलते वहां कि महिलाए लकडियों में खाना बनाना भूल गई है। जो युवा सेना पर पत्थरबाजी करते थे, वे रोजगार के लिये फौज में भर्ती हो रहे है। सालों बाद कश्मीर में फुटबॉल मैच देखने के लिए हजारों की संख्या में भीड़ स्टेडियम पहुंच रही है। यानी यू कहे कि विकास ने कही न कही कश्मीर के रास्ते में ईट फैलाने वाले मंसूबो पर पानी फेर दिया है। तभी तो कश्मीर में धारा 370 हटने के बाद किसी भी निर्दोष आदमी की जान नही गई है जो कश्मीर में आये परिवर्तन को साफ दिखलाता है और ये बतलाता है कि मोदी सरकार सिर्फ राष्ट्रहित के लिये ही काम करती है। कश्मीर आज उस ऊंचाई को छूने जा रहा है जिसका सपना मोदी जी ने देखा था।

वही मोदी सरकार की इच्छाशक्ति ने ये भी दिखा दिया, कि अगर कोई सरकार सियासत से हटकर काम करे तो सालों पुरानी बीमारी भी दूर हो जाती है और इसका जीता जागता सबूत कश्मीर बनकर भी उभरा है।

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •