ईस्टर्न इकोनॉमिक फोरम में मोदी मुख्य अतिथि, पाकिस्तान को न्योता नहीं

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Modi's chief guest in the Eastern Economic Forum

भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 4 से लेकर 6 सितम्बर के बीच रूस के व्लादिवोस्तोक में होने होने वाली पांचवीं ईस्टर्न इकोनोमिक फोरम में मुख्य अतिथि के तौर पर हिस्सा लेंगे| रुसी राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन ने खुद प्रधानमंत्री को फ़ोन कर के आने का निमंत्रण दिया| जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे भी इस सम्मेलन में आमंत्रित हैं|

पाकिस्तान को निमंत्रण नहीं

एक तरफ जहाँ भारत की प्रतिष्ठा दिन-प्रतिदिन नयी ऊँचाइयों को छु रही है वहीँ पाकिस्तान के बहिष्कार के रोज़ नए किस्से सुनने को मिल रहे है| रूस के राष्ट्रीपति ब्लाँदिमीर पुतिन ने पाकिस्ता न के प्रधानमंत्री इमरान खान को पांचवीं ईस्टेर्न इकोनॉमिक फोरम में आने का न्योरता नहीं दिया है| बता दें कि इस सम्मलेन के विषय में पुतिन के सलाहकार एंटों कोब्यााकोव और मॉस्कोि में भारतीय राजदूत बाला वेंकटेश वर्मा के बीच बैठक भी हुई है|

क्या है ईस्टकर्न इकोनॉमिक फोरम?

ईस्टर्न इकोनॉमिक फोरम एक अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन है जिसका ध्येय है सुदूर पूर्वी रूस में निवेश को बढ़ावा देना| 2015 में शुरू होने के बाद से ये हर साल व्लादिवोस्तोक में आयोजित होता है| इस साल इसका पाँचवां संस्करण 4 से 6 सितम्बर 2019 के दौरान व्लादिवोस्तोक में होने जा रहा है| इसका अहम् उद्देश्य है एशिया-पैसिफिक के साथ जॉइंट प्रोजेक्ट और ट्रेड को बढ़ावा देना|

बीते सोमवार को रूस के राष्ट्रपति पुतिन ने मोदी को खास तौर पर फ़ोन करके इस कार्यक्रम में बतौर चीफ गेस्ट आने का न्योता दिया | मोदी के अलावा पुतिन ने जापान के राष्ट्रपति शिंजो अबे को भी इस कार्यक्रम में शिरकत करने का न्योता दिया है|

सूत्रों का कहना ये भी है टेलीफोन पर हुए वार्तालापं के दौरान दोनों राष्ट्राध्यक्षों ने द्विपक्षीय एवं अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर भी चर्चा की और आतंकवाद से निपटने के लिए एक दुसरे का सहयोग करने का भी संकल्प लिया|

पाकिस्तान की बढती मुश्किलें

दिन-प्रतिदिन नए-नए आलोचनाओं और बहिष्कार का शिकार बनता जा रहा है पाकिस्तान| पहले किर्गिस्तान के बिस्केक में हुए SCO सम्मलेन में पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान अपनी करनी से लोगो के बीच हास्य का पात्र बने थे, और अब रूस के द्वारा पांचवीं ईस्टतर्न इकोनॉमिक फोरम का न्योता न मिलने पर एक बार फिर पाकिस्तान की छीछालेदर हो रही है|

एक तरफ तो पाकिस्तान अपनी आर्थिक तंगी से जूझ रहा है, वहीँ दूसरी तरफ पूरी दुनिया से उसका रिश्ता खट्टा होता जा रहा है| इन सारी घटनाओ से एक ही बात सबित होती है कि पूरी दुनिया में पाकिस्तान बिलकुल अलग और अकेला पड़ गया है|

अहम् बात ये है कि अपनी इस हालत का जिम्मेदार खुद पाकिस्तान ही है| जब तक पाकिस्तान आतंकवाद के खिलाफ कोई सख्त कदम नहीं उठाता उसे दुनिया भर से बहिष्कार का सामना करना होगा|

पाकिस्तानी मीडिया के तोते उड़े

पाकिस्तान मीडिया ने पिछले हफ्ते खबर दी कि इमरान खान ने राष्ट्रपति पुतिन का पांचवीं ईस्टसर्न इकोनॉमिक फोरम का आमंत्रण स्वीकार कर लिया है| पर मीडिया के तोते तब उड़े जब बीते मंगलवार को रूस के विदेश मंत्रालय ने पाकिस्तानी मीडिया की रिपोर्ट्स को खारिज करते हुए कहा कि ईस्टर्न इकनॉमिक फोरम (EEF) के लिए इमरान खान को न्योता नहीं दिया गया है|

अपनी ही मीडिया की गलती पर पर्दा डालते हुए पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने कहा की मीडिया सिर्फ इस मुद्दे से जुडी अटकले लगा रही थी| भाई अब तुम झूठे हो तो मान लो वैसे भी पूरी दुनिया पाकिस्तान के बडबोलेपन से वाकिफ है|


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •