कयासों से परे रही मोदी-ट्रम्प मुलाकात, मोदी की तारीफ करते नहीं थके ट्रम्प

Modi-Trump meet beyond speculation, not tired of praising Modi

इस समय जापान के ओसाका में 14वा G20 SUMMIT चल रहा है जहाँ पर विभिन्न देशों के राष्ट्राध्यक्ष हिस्सा लेने पहुंचे है| बीते शुक्रवार को PM मोदी और डोनाल्ड ट्रम्प की मुलाकात हुई| मोदी के दुबारा PM बनने के बाद ये डोनाल्ड ट्रम्प के साथ उनकी पहली मुलाकात थी| इस मुलाकात को लेकर बहुत से कयास लगाये जा रहे थे|

बीते कुछ महीनो में दोनों देशों के बीच बहुत से मसलों को लेकर तना-तनी रही| अमेरिका के द्वारा भारत को GSP प्रणाली से बाहर कर देना, बदले में भारत का अमेरिका से निर्यात होने वाली वस्तुओं पर टैक्स दोगुना कर देना, अमेरिकी सरकार का वीजा नियमों पर सख्त होना, जैसे कई मसले दोनों देशों के बीच के रिश्तों को कमज़ोर कर रहे थे| ऐसे में दोनों महामहिमों की होने वाली मुलाकात कुछ अच्छे सन्देश नहीं दे रही थी|

पर दोनों राष्ट्राध्यक्षों की मुलाकात में जो हुआ वो सबकी उम्मीदों के परे और आश्चर्यचकित करने वाला था| जब PM मोदी कि मुलाकत डोनाल्ड ट्रम्प से हुई तो मोदी ने उनसे ईरान, 5जी, द्विपक्षीय संबंध और रक्षा संबंध पर बात करने के लिए पूछा| PM मोदी के इस रुख को देखते हुए ट्रम्प ने भी पुरानी बातों को छोड़, मोदी के सम्मान में उनकी तारीफों और उपलब्धियों के पूल बांध दिए|

मोदी की तारीफ में ट्रम्प ने कही ये बातें –

1. 2019 लोक सभा चुनाव जीतने के बाद ये मोदी और ट्रम्प की पहली मुलाकात थी, इसलिए ट्रम्प ने पहले मोदी को उनके ऐतिहासिक जीत की बधाई दी और कहा कि वो बहुत अच्छा काम कर रहे है|

2. बधाई के बाद ट्रम्प ने उनके पहले कार्यकाल को याद करते हुए कहा कि, “मुझे याद है जब आप पहली बार पीएम बने थे तो भारत में कितने छोटे-छोटे ग्रुप सक्रिय थे, जो देश के लिए घातक थे| लेकिन मोदी ने उन सभी को एक साथ आकर काम करने के लिए बाध्य कर दिया|

3. इसके बाद ट्रम्प ने मोदी की उपलब्धियों और उनकी क्षमता की सराहना करते हुए कहा कि जिस तरह PM मोदी ने भारत को गुटबाजी जैसी बीमारी से उबार कर एक बड़ा काम किया है वो काबिले तारीफ है| यह उनके शानदार नेतृत्व का परिचायक है|

4. PM मोदी की तारीफ करने के साथ ही ट्रम्प ने आगामी दिनों में दोनों देशों के रिश्तों को और मजबूती देने की बात कही और कहा, “मैं इस बात को लेकर पूरी तरह से आश्वस्त हूं कि भारत और अमेरिका कई मोर्चों पर एक साथ काम करेंगे| इनमें रक्षा और हमारी मिलिट्री ताकत पर होने वाले काम प्रमुखता से शामिल हैं| इतना ही नहीं आज, रक्षा और ट्रेड मसलों पर विस्तार से बात भी की जाएगी, हमें कोई जल्दबाजी नहीं है|”

आपको बता दें की दोनों राष्ट्राध्यक्षों की मुलाकात से पहले कई बातों को तूल दिया गया था| अमेरिका से तो ऐसी भी बात सामने आई कि जब तक भारत हालिया बढ़ाई गई टैरिफ को फिर से नहीं घटाता, तब तक अमेरिकी राष्ट्रपति इंडियन पीएम से नहीं मिलना चाहते| पर दो दिन पहले जब अमेरिका के विदेश मंत्री पोम्पियों का भारत दौरा हुआ तो दोनों देशो के बीच अच्छे रिश्तों की उम्मीदें बढ़ी|