लगभग सारे भारतीय मानते हैं कि मोदी जीत सकते हैं कोरोना से जंग

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

भारतीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एक चुम्बकीय व्यक्तित्व वाले इंसान हैं | इस दुनिया मे लगभग हर इंसान उनके व्यक्तित्व तथा नेतृत्व क्षमता का कायल है | इसपर उनकी प्रतिकूल परिस्थितियों मे निर्णायक फैसले लेने की प्रतिभा के तो क्या ही कहने ! उनके यही सारे गुणों की वजह से आज पूरा भारत उन्हें किसी मसीहा के तौर पर देख रहा है | और ऐसा हो भी क्यों न, आखिर सदियों बाद देश को ऐसा प्रधानमंत्री मिला है जो मुश्किल परिस्थितियों मे देश के अंदर ही नहीं बाहर के लोगों को भी सुरक्षित महसूस करवा रहा है |

चाहे वो डॉक्टरों के सम्मान मे जनता से थाली बजाने की अपील हो या दिया जलाने की, जनता ने उनके हर फैसले को सर आँखों पर रखा है, और इस वजह से, क्योंकी जनता का यह मानना है कि अगर कोरोना को कोई मात दे सकता है तो वो मोदी ही है |  

लॉकडाउन से बढ़ा मोदी सरकार पर भरोसा

हाल में किए गए एक सर्वे में कहा गया है कि 93.5% भारतीयों को यकीन है कि मोदी सरकार कोरोना संकट से बहुत असरदार तरीके से निपट रही है। केंद्र सरकार ने 25 मार्च से 21 दिन के लिए देशव्यापी लॉकडाउन का ऐलान किया था जिसे 3 मई तक बढ़ा दिया गया है। IANS-C-voter कोविड-19 ट्रैकर के मुताबिक, लॉकडाउन के पहले दिन 76.8% लोग मोदी सरकार पर भरोसा कर रहे थे। 21 अप्रैल तक 93.5% देशवासी मोदी सरकार के कदमों से खुश हैं और उनका मानना है कि सरकार कोरोना संकट से प्रभावी तौर पर निपट रही है।

वैश्विक स्तर पर भी पीएम मोदी की तारीफ

ध्यान रहे कि मंगलवार को अमेरिकी सर्वे कंपनी मॉर्निंग कंसल्ट ने प्रधानमंत्री मोदी को वैश्विक स्तर पर सर्वश्रेष्ठ राष्ट्रप्रमुख घोषित किया था। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भी ट्वीट कर इसकी जानकारी दी। उन्होंने लिखा, ‘सच्चाई सबके सामने है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जिस तरह से कोविड-19 वैश्विक महामारी से निपट रहे हैं, भारतीयों की देखभाल कर रहे हैं और ऐसे चुनौतीपूर्ण वक्त में वैश्विक समुदाय को मदद कर रहे हैं, उसकी पूरी दुनिया प्रशंसा कर रही है। हर भारतीय खुद को सुरक्षित महसूस कर रहा है और उनके नेतृत्व पर भरोसा कर रहा है।’

सर्वे में क्या कहा गया

बहरहाल, आईएएनएस-सी-वोटर के 16 मार्च से 21 अप्रैल के दौरान किए गए सर्वे में एक वाक्य लोगों के सामने रखा गया। यह वाक्य था, ‘मुझे लगता है कि सरकार कोरोना वायरस के संकट से अच्छी तरह से निपट रही है।’ 16 मार्च को 75.8% लोगों ने कहा कि उन्हें सरकार पर भरोसा है, लेकिन जब देश में लॉकडाउन का ऐलान हुआ तो ऐसा मानने वालों की संख्या बढ़ गई।

1 दिन में बढ़ा 10.5% लोगों का भरोसा

बड़ी बात यह है कि 1 अप्रैल तक मोदी सरकार पर भरोसा करने वालों का प्रतिशत बढ़कर 89.9 हो गया जबकि एक दिन पहले 31 मार्च को 79.4% लोग ही सरकार के कामकाज पर यकीन था। यानी, एक दिन में मोदी सरकार पर भरोसा करने वालों में 10.5% का इजाफा हो गया। मंगलवार को अमेरिकी सर्वे कंपनी मॉर्निंग पोस्ट ने भी बताया कि पीएम मोदी की अप्रूवल रेटिंग 68 है जो किसी भी राष्ट्रप्रमुख से बहुत ज्यादा है।

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •