मन की बात / राम मंदिर पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा – सुप्रीम कोर्ट के फैसले को पुरे देश ने मन से स्वीकारा

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Mann Ki Baat/Modi said - whole country accepts Supreme Court's decision

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को मन की बात कार्यक्रम के 59वां संस्करण के जरिए देश को संबोधित करते हुए कहा कि राम मंदिर पर जब फ़ैसला आया तो पूरे देश ने उसे दिल खोलकर गले लगाया। पूरी सहजता और शांति के साथ स्वीकार किया। अयोध्या मामले पर 9 नवम्बर को सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद 130 करोड़ भारतीयों ने फिर ये साबित कर दिया कि उनके लिए देशहित से बढ़कर कुछ नहीं है। देश में, शांति, एकता और सदभावना के मूल्य सर्वोपरि हैं। आज,‘मन की बात’ के माध्यम से मैं देशवासियों को धन्यवाद देना चाहता हूँ। उन्होंने, जिस प्रकार के धैर्य, संयम और परिपक्वता का परिचय दिया है, मैं, उसके लिए विशेष आभार प्रकट करना चाहता हूँ।

पीएम मोदी ने कहा कि लम्बे समय के बाद कानूनी लड़ाई समाप्त हुई है, और लोगो का न्यायपालिका के प्रति सम्मान अब और बढ़ा है। सही मायने में ये फैसला हमारी न्यायपालिका के लिए भी मील का पत्थर साबित हुआ है।

बता दे कि प्रधानमंत्री हर माह की आखिरी रविवार को देशवासियों के साथ मन की बात करते हैं। पिछले महीने पीएम मोदी ने 27 अक्टूबर को मन की बात कार्यक्रम के जरिए देश को संबोधित किया था। 27 अक्टूबर को अपने मन की बात कार्यक्रम की शुरुआत लोगों को दिवाली की शुभकामनाएं देते हुए की थी और इसके साथ ही उन्होंने गुरुनानक देव को भी अपनी श्रद्धांजलि अर्पित की, जिनकी 550वीं जयंती इस साल मनाई जा रही है।

इससे पहले पीएम मोदी ने मन की बात कार्यक्रम की शुरूआत एनसीसी दिवस के अवसर पर शुभकामनाएं देने के साथ की। गौरतलब है की नवम्बर महीने का चौथा रविवार हर साल एनसीसी डे(नेशनल कैडेट कॉर्प्स डे) के रूप में मनाया जाता है। इसमें पीएम मोदी ने अलग-अलग राज्यों के एनसीसी कैडेट्स से उनके अनुभव के बारे में जानकारी ली। इसके बाद उन्होंने एनसीसी से जुड़े अपने अनुभवों को साझा किया। उन्होंने कहा “मैं भी बचपन में मेरे गांव के स्कूल में एनसीसी कैडेट रहा, तो मुझे ये डिसिप्लेन, ये यूनिफॉर्म मालूम है। मैं भी आप ही की तरह कैडिट रहा हूं और मन से आज भी अपने आपको कैडिट मानता। यह दुनिया के सबसे बड़े यूनिफॉमर्ड यूथ ऑर्गेनाइजड में से भारत की एनसीसी एक है। इसमें सेना, नौ-सेना, वायुसेना तीनों शामिल हैं। नेतृत्व, देशभक्ति, सेल्फलेस सर्विस, अनुशासन और कठिन परिश्रम को अपने चरित्र का हिस्सा बनाने की रोमांचक यात्रा का नाम ही एनसीसी है।“

प्रधानमंत्री मोदी ने अपने संबोधन में सात दिसंबर को आर्म्ड फोर्सिज फ्लैग डे के अवसर पर देशवासियों को वीर सैनिकों के अदम्य साहस, शौर्य और समर्पण भाव के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करते हुए उनके सम्मान और सहभागिता के लिए आगे आने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि स्वस्थ शरीर से ही ताकत मिलती है और आत्म विश्वास बढ़ता है जिससे व्यक्तित्व में निखार आता है।

फिट इंडिया अभियान

फिट इंडिया अभियान के बारे में बात करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि CBSE ने ‘फिट इंडिया विक’ की एक सराहनीय पहल की है। इस अभियान में फिटनेस को लेकर कई प्रकार के आयोजन किए जाने हैं। पीएम ने कहा कि फिट इंडिया सप्ताह के दौरान विद्यार्थियों के लिए क्विज, निबंध, लेख, चित्रकारी, पारंपरिक और स्थानीय खेल, योगासन, डांस एवं खेलकूद आदि प्रतियोगिताएं आयोजित की जा सकती हैं। फिट इंडिया का मतलब दिमागी कसरत के साथ कड़ा शारीरिक श्रम, खानपान की आदत और जीवन शैली में बदलाव लाना है। पधानमंत्री ने मन की बात कार्यक्रम के जरिए सभी स्कूलों से दिसंबर माह में फिट इंडिया सप्ताह मनाने की अपील करते हुए कहा कि इससे हम सबमें फिटनेस की आदत दिनचर्या में शामिल होगी।

Fit Indiaportal पर जाकर स्कूल स्वयं को फिट घोषित कर सकते हैं, जिसके आधार पर उन्हें रैंकिंग दी जाएगी। पीएम मोदी ने फिट इंडिया अभियान को जन आंदोलन बनाने की अपील की।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि 26 नवम्बर का दिन पूरे देश के लिए बहुत ख़ास है। हमारे गणतंत्र के लिए विशेष रूप से महत्वपूर्ण है, क्योंकि इस दिन को हम ‘संविधान दिवस’ के रूप में मनाते हैं। और इस बार का ‘संविधान दिवस’ अपने आप में विशेष है, क्योंकि, इस बार संविधान को अपनाने के 70 वर्ष पूरे हो रहे हैं। इस बार इस अवसर पर पार्लियामेंट में विशेष आयोजन होगा और फिर साल भर पूरे देशभर में अलग-अलग कार्यक्रम होंगे।

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •