सिंगापुर ने भारत से मांगी मदद, मोदी ने किया मदद का वादा

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

कोरोना महामारी से इस वक़्त पूरी दुनिया त्रस्त है। COVID-19 के खिलाफ इस लड़ाई में भारत महत्वपूर्ण व सक्रिय भूमिका निभा रहा है। विश्व के कई शक्तिशाली और संपन्न देशों को जरूरी दवाई भेजा रहा है। इसके लिए कई राष्ट्राध्यक्षों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद देते हुए भारत की सराहना की है। कल यानी गुरुवार को पीएम मोदी ने सिंगापुर को हर संभव मदद का भरोसा दिया है।

सिंगापुर को दिया मदद का आश्वासन 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कल सिंगापुर के पीएम ली ह्सियन लूंग से फोन पर बात की और वहां का हाल जाना। इस दौरान प्रधानमंत्री ने सिंगापुर के प्रधानमंत्री के आग्रह पर सिंगापुर को दवाई सहित हर जरूरी सामान की आपूर्ति करने का भरोसा दिलाया। साथ ही उन्होंने वहां रह रहे भारतीयों की मदद के लिए उनकी सराहना भी की। दोनों नेताओं के बीच हुई बातचीत में कोरोना महामारी से उपजे स्वास्थ्य और आर्थिक चुनातियों पर चर्चा हुई। 

कोरोना संक्रमण को लेकर दोनों राष्ट्राध्यक्षों के बीच हुई बातचीत की जानकारी प्रधानमंत्री कार्यालय ने दी है। इससे पहले भारत ने अमेरिका, ब्रिटेन, इजरायल सहित कई महत्वपूर्ण देशों को जरूरी दवाईयां दी हैं। इसके लिए सभी ने भारत के प्रति आभार प्रकट किया है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद कहा है। नेपाल को भी लगभग 23 टन जरूरी दवाई भेजी गई है।

नेपाल ने भी व्यक्त किया मोदी का आभार

नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने इसके लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद कहा है। उन्होंने अपने ट्वीट में कहा, ‘मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का धन्यवाद करता हूं कि उन्होंने कोरोना महामारी से लड़ने के लिए नेपाल को 23 टन जरूरी दवाई दी है। आज भारतीय राजदूत के द्वारा हमारे स्वास्थ्य मंत्री को दवाईयां सौंपी गईं।’

विदेश मंत्री ने अमरीका, रूस और ब्राजील के विदेश मंत्रियों से की चर्चा 

विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने गुरुवार को अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो, रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव और ब्राजील के अपने समकक्ष अर्नेस्टो अरौजो से टेलीफोन पर बात की और कोरोना वायरस महामारी से प्रभावी तरीके से निपटने के तरीकों पर चर्चा की। जयशंकर ने ओमान के विदेश मंत्री यूसुफ अलावी और सऊदी अरब के विदेश मंत्री शहजादा सऊद अल-फैजल से भी फोन पर बातचीत की और उनके देशों में रहने वाले भारतीय समुदाय का खयाल रखने के लिए दोनों का शुक्रिया अदा किया।


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •