कोरोना से लोगों के साथ साथ देश की आर्थिक स्थिति को बचाती मोदी सरकार

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

मोदी सरकार एक तरफ जहां कोरोना वायरस से देश को बचाया जा सके इसके लिए लगातार स्वास्थ सेवाएं बेहतर करने में लगी है तो आर्थिक तौर पर देश का कम नुकसान हो इसके लिए भी लगातार कदम उठा रही है। जिसके चलते मोदी सरकार ने आयकर जमा करने वालो को एक बड़ी राहत दी है और फाइनल टैक्स जमा करने की तारीख 30 जून कर दी है। 

आयकर जमाकर्ता को बड़ी राहत –

कोरोना वायरस के चलते सारा देश लॉक आउट है ऐसे में कुछ लोगो को आयकर जमा करने की चिंता सता रही थी लेकिन अब ये चिंता सरकार ने दूर कर दी है। क्योकि सरकार ने  देशवासियों को बड़ी राहत देते हुए वित्त वर्ष 2018-19 के लिए इनकम टैक्स फाइल करने की तारीख 30 जून तक बढ़ा दी। इसके साथ साथ इनकम टैक्स रिटर्न में हुई देरी पर जुर्माना भी 12% से घटाकर 9% कर दिया गया. आधार-पैन लिंक करने की तारीख भी बढ़ाकर 30 जून कर दी गई. विवाद से विश्वासकी स्कीम की तारीख भी 30 जून तक बढ़ाई गई। खुद वित्तमंत्री ने ऐलान किया कि फाइनेंशियल फाइलिंग की सीमा 29 जून तक बढा दी गई है। मार्च-अप्रैल-मई की GST रिटर्न की तारीख भी बढ़ाकर 30 जून कर दी गई है। इतना ही नहीं, कंपनसेशन स्कीम का विकल्प चुनने की आखिरी तारीख भी 30 जून कर दी गई है। जिनका टर्नओवर 5 करोड़ से कम है, उन्हें लेट फीस भी नहीं देनी होगी। इंपोर्टर और एक्सपोर्टर के बीच कोई दिक्कत न हो इसके लिए 30 जून तक कस्टमर क्लियरेंस की सुविधा भी 24 घंटे कर दी गई है। इसके साथ साथ किसी भी बैक के ATM से पैसा निकलाने पर अब चार्ज नहीं लगेगा साथ ही मिनिमम बैलेंस भी खत्म कर दिया गया है। 

खुद पीएम मोदी की है पैनी नजर 

ये कदम तो सरकार ने उठा दिये है हालाकि इस बीच सरकार ने उन करोबारियों को भी एक संदेश दिया है जिनका कारोबार इस वक्त कोरोना वायरस के चलते ठप्प हो गया है। वित्तमंत्री ने ऐलान किया है कि वो इसको देखते हुए जल्द ही एक राहत पैकेज की घोषणा कर सकती है। गौरतलब है कि कोरोना वायरस के जलते देश ही नही विदेश में भी आर्थिक मंदी के बादल छाये हुए है। हालाकि भारत में इन बादलो को हटाकर आर्थिक प्रकाश फैलाने के लिये खुद पीएम मोदी ने मोर्चा भी संभाल रखा है। जिसके चलते उन्होने देश के बड़े कारोबारियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग जिसमें कर्मियों की छटनी न करने और लॉकडाउन के दौरान वेतन न काटने की बात कही है। जिससे कई कारोबारियों ने सहमती भी जताई है। इसके साथ साथ विश्व के माहौल पर भी पीएम मोदी जी नजर बनाये हुए है। जिससे देश की आर्थिक स्थिति पर कोरोना का वॉर कम असर कर सकें। 

बरहाल ये तो है कि इस वक्त देश ही नही दुनिया में कोरोना के चलते कुछ भी ठीक नही है। लेकिन ऐसे मौके पर हमे हताश होने के बजाये आशावान होना होगा और ये तय करना होगा कि हम देश का माहौल कैसे ठीक कर सके। ऐसे में हर भारत वासियों कर्तव्य बनता है कि वो सरकार का पूरा साथ दे जिससे इस संकट को मोदी जी और हम मिलकर हरा सके। 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •