मोदी ने पंचायती राज योद्धाओं को सराहा तथा शुरू किया ई-ग्राम स्वराज एप्लिकेशन

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पंचायती राज मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को पत्र के जरिये पंचायती राज दिवस की बधाई दी। मोदी ने लिखा कि जब कोरोना महामारी पूरी मानवता के समक्ष चुनौती बन कर खड़ी है, ऐसे में हम सभी भारतीय पूरी एकजुटता के साथ उसका मुकाबला कर रहे हैं। इसमें पंचायती राज व्यवस्था के सदस्य वीर योद्धा की तरह अहम भूमिका निभा रहे हैं। मोदी ने पत्र की शुरूआत महात्मा गांधी के विचारों से की। उन्होंने लिखा, महात्मा गांधी का मानना था कि भारत की आत्मा गांवों में बसती है। हमारी सरकार इसी सोच के साथ आगे बढ़ रही है। इसमें उन्होंने पंचायती राज क्षेत्रों की कई योजनाओं का जिक्र भी किया। 

इस अवसर पर प्रधानमंत्री ने एक बड़ी योजना की शुरुआत की। पीएम ने देशभर के सरपंचों और ग्राम प्रधानों से चर्चा के दौरान ई- ग्राम स्वराज पोर्टल और ऐप भी लॉन्च किया। इसके जरिए देश की 2 लाख से ज्यादा पंचायतों को योजना बनाने से लेकर खर्चे की निगारानी में काफी मदद मिलेगी।

ग्राम स्वराज एप्लिकेशन बड़े काम का

केंद्र सरकार के इस एप्लिकेशन के जरिए ग्राम पंचायतों की योजनाओं से लेकर खर्चे और सरपंच, पंचों और पंचायत सचिव के बारे में हर जानकारी एक जगह उपलब्ध होगी। पंचायती राज मंत्रालय ने इस एप्लिकेशन को बनाया है। इसके जरिए पंचायतों में किए गए कार्य की निगरानी आसानी से की जा सकती है। इससे पंचायत की गतिविधियों में सुधार आएगा और योजनाओं की व्यापकता बढ़ेगी। इसके जरिए पंचायत की पूरी जानकारी एक ही जगह मिल जाएगी। यहं सरपंच, पंचों, पंचायत सचिव, खर्चे, संपत्ति का विवरण, ग्राम पंचायत विकास योजना, जीपीडीपी में की गईं गतिविधियां, जनगणना 2011, मिशन अंत्योदय सर्वेक्षण रिपोर्ट आदि सब यहां मिल सकता है।

पंचायत के हर खर्च की यहां मिलेगी जानकारी

ग्राम स्वराज एप्लिकेशन वर्क बेस्ड अकाउंटिंग पर केंद्रित है। इससे जीपीडीपी में प्रस्तावित प्रत्येक गतिविधियों में किए गए हर खर्च का विवरण उपलब्ध होगा। पंचायत की गतिविधियां, कार्य का नाम, योजना का नाम और राशि, चुने गए वित्तीय वर्ष के लिए आमदनी और खर्च संबंधी सभई जानकारी मिल जाएगी।

ऐप पर मिलेगा सबकुछ

योजनाओं के विश्लेषण के लिए ब्लॉक, जिला स्तर के प्रतिनिधियों के पास अच्छी जानकारी उपल्ध रहेगी। इस एप्लिकेशन के जरिए कार्यों की वास्तविक निगरानी और स्थिति का पता चलेगा।

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •