BRICS Summit: अगले साल चीन में होगी मोदी-जिनपिंग की तीसरी अनौपचारिक बैठक

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

PM Modi meet XI Jinping

मोदी इस समय ब्राजील में 11वें ब्रिक्स सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए गए हुए हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के बीच ब्रासिलिया में मुलाकात हुई। जिसके बाद प्रधानमंत्री ने कहा कि महाबलीपुरम में दूसरे अनौपचारिक शिखर सम्मेलन के बाद दोनों देशों के द्विपक्षीय संबंधों में नई दिशा और नई ऊर्जा आई है। राष्ट्रपति जिनपिंग ने चेन्नई में दूसरे अनौपचारिक शिखर सम्मेलन में उनकी मेजबानी के लिए प्रधानमंत्री की खुलकर प्रशंसा की और कहा कि वह मोदी और भारत के लोगों द्वारा दिए गए स्वागत को नहीं भूलेंगे। राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने 2020 में चीन में मोदी को तीसरी अनौपचारिक बैठक के लिए आमंत्रित किया है। इसके लिए तारीख और जगह का निर्धारण राजनयिक माध्यम से किया जाएगा।

दोनों नेताओं ने सहमति व्यक्त की कि महाबलीपुरम शिखर सम्मेलन में व्यापार और अर्थव्यवस्था पर तय किए गए उच्च स्तरीय तंत्र को जल्द से जल्द पूरा किया जाएगा। पिछले महीने हुई दूसरी अनौपचारिक बैठक के महत्वपूर्ण परिणामों में से एक था।

Modi-Jinping's meeting

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 11वें ब्रिक्स सम्मेलन में आतंकवाद के खिलाफ सहयोग के लिए तंत्र बनाने और दुनिया की प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं के साथ भारत के संबंधों को मजबूत करने पर ध्यान केंद्रित करेंगे। उन्होंने शिखर सम्मेलन से इतर जिनपिंग से मुलाकात की और कहा, ‘मुझे एक बार फिर आपसे मिलने की खुशी है। जब मैं पीछे मुड़कर देखता हूं तो हमारी पहली मुलाकात ब्राजील में हुई थी। यहां से हमारी यात्रा शुरू हुई।’

उन्होंने आगे कहा, ‘अनजान लोगों की यह यात्रा आज एक गहरी दोस्ती में बदल चुकी है। इसके बाद हम कई फोरम, द्वीपक्षीय वार्ता, मेरे गृह राज्य, आपके गांव में मिले। आप वुहान के लिए मेरा स्वागत करने के लिए बीजिंग आए। यह पांच सालों के अंदर काफी महत्वपूर्ण बात है, हमारे इतने भरोसे और मैत्रीपूर्ण संबंध बन गए हैं।’ दोनों के बीच मुलाकात के बाद प्रधानमंत्री कार्यालय ने एक अलग ट्वीट में कहा, ” प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग के बीच बातचीत सार्थक रही। दोनों के बीच व्यापार और निवेश समेत अन्य प्रमुख मुद्दों पर चर्चा हुई। “

गौरतलब है कि मोदी-जिनपिंग के बीच यह वार्ता ऐसे समय हो रही है जब कुछ दिन पहले भारत ने चीन समर्थित आरसीईपी समझौते से यह कहते हुए किनारा कर लिया था कि प्रस्तावित समझौते का भारत और भारतीयों पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा।

ब्राज़ील में दो दोस्तों की मुलाकात

इससे पहले, प्रधानमंत्री मोदी ने दुसरे देशों के बीच रणनीतिक साझेदारी को बढ़ाने के लिए रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और ब्राजील के राष्ट्रपति जायर बोल्सोनारो के साथ व्यापक वार्ता की।

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •