‘मोदी जी, हमारे दांत नहीं आ रहे, खाने में दिक्कत हो रही, प्लीज हमारी मदद कीजिए!’

यूं तो देश के पीएम नरेंद्र मोदी के पास हर रोज हजारों खत आते है और ये हर भारतवासी जानता है कि पीएम मोदी खत का जवाब भी देते है। लेकिन आज पीएम मोदी के पास एक ऐसा खत आया है जो खूब वायरल हो रहा है। ये खबर भी दो वायरल चिट्ठियों से जुड़ी है। लेकिन इन्हें ना तो किसी खास ने लिखा है और ना किसी आम शख्स ने। ये चिट्ठियां तो आम और खास से अलग हैं क्योंकि इन्हें असम के दो मासूम बच्चों ने लिखा है। वो भी देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आखिर उन्होने क्या लिखा है इस खत में चलिये जानते हैं।

पीएम मोदी से असम के 2 बच्चों की गुहार

असम के रहने वाले 6 साल की रौसा रावजा अहमद और 5 साल के आर्यन अहमद ने पीएम मोदी को एक खत भेजा है जिसमें अपना ‘दर्द’ बयान किया है। बच्चो ने अपनी तकलीफ बताते हुए लिखा है कि उनके कुछ दांत नहीं आ रहे हैं और वे इससे परेशान हैं, क्योंकि अपना पसंदीदा फूड जो नहीं खा पा रहे। क्या इसका कोई समाधान हो सकता है। दरअसल इन दोनो बच्चो के आगे के तीन दांत टूट चुके है जिसके चलते इन्हे खाने में दिक्कत आ रही है और इसी बाबत इन बच्चो ने ये कदम उठाया। ऐसा नहीं है कि उन्होने केवल पीएम मोदी को ही खत लिखा। उन्होने ऐसा ही पत्र असम के सीएम को भी भेजा है जिसके बाद ये दोनो खूब सूर्खियों में बने हुए है।

इससे पहले भी आ चुके है ऐसी फरियादे

पीएम मोदी के पास इससे पहले भी कई बार इस तरह की मांगे आ चुकी है। ऐसा ही एक किस्सा कुछ दिन पहले ही कश्मीर से आया था जब एक बच्चे ने ऑनलाइन पढ़ाई को लेकर सवाल खड़े करते हुए मोदी जी से स्कूल की टाइमिंग को कम करने के लिए गुहार लगाई थी। इससे ये पता चलता है कि आज पीएम मोदी की लोकप्रियता कितनी अधिक बढ़ गई है कि बच्चे भी अच्छी तरह से जानते है कि पीएम मोदी ही उनकी मांगो को पूरा कर सकते है। दूसरे शब्दो में ये कहे कि आज पीएम मोदी और जनता के बीच बिल्कुल भी दूरी नहीं है तभी हर कोई पीएम मोदी से सीधे बात करते है और पीएम मोदी सीधे ही सबसे जुड़ते है तभी एक बच्चे की गुहार पर उसे मिलने के लिए अपने पास बुला लेते है जो ये बताता है कि पीएम मोदी और जनता के बीच अब कोई अवरुद्ध नहीं है।

यही वजह है कि जनता जितना मोदी जी से प्यार करती है उतना शायद ही किसी नेता से करती होगी। तभी तो पीएम मोदी आज विश्व के सबसे लोकप्रिय नेता बन गये हैं।