मोदी जी के कुछ ऐसे हैं संस्कार, घर आये मेहमानों का भगवान की तरह करते हैं स्वागत

पीएम मोदी के कथनी और करनी में कोई अतंर नही है ये एक बार फिर साबित हो गया है क्योकि पीएम हमेशा बोलते है कि अतिथि देवो भवः यानी अतिथि भगवान के समान होता है और वो ऐसा मानते भी है। तभी तो वो अपने घर आये अतिथि का सतकार बहुत भावपूर्ण तरीके से करते है। इसका एक उदाहरण तब देखने को मिला जब पीएम मोदी से मिलने आये सिख समुदाय के लोगों को अपने हाथों से खाने की प्लेट देते हुए देखा गया।

सिख समुदाय के लोगों से पीएम ने की मुलाकात, हाथों से खाना परोसा

सिख समुदाय के कुछ लोगों ने आज पीएम मोदी से उनके निवास स्थान पर मुलाकात की। पीएम मोदी ने इस मुलाकात में सिख समुदाय को बताया कि उनकी सरकार किस तरह सिखों के सम्मान के लिए काम कर रही है। उन्होने बताया कि करतापुर साहिब खुलवाने का मामला हो या फिर अफगानिस्तान से सिख समुदाय को वतन लाना हो, उनकी सरकार ने हर वो काम किया जिससे सिखों का सम्मान हो सके। इस दौरान पीएम मोदी ने मेहमानों को अपने हाथ से खाना परोसा जिससे ये साफ पता चलता है कि पीएम के दिल में अपने अतिथियों के प्रति कितना प्रेम रहा है। वो खुले दिल से बिना इस बात का घमंड किये लोगों से मिलते है कि वो देश के प्रधान है और यही खासियत पीएम मोदी की लोगों के दिल को छू जाती है।

संतों के सम्मान में जूते उतारकर आये

ऐसे ही कुछ दिन पहले जब संत समाज के कुछ संत पीएम मोदी से मिलने उनके निवास पर गये थे तो पीएम मोदी ने उनके स्वागत में बिना जूते पहनकर मिलने आये। खुद पीएम मोदी ने बोला इतने संत एक साथ आज मेरे निवास स्थल पर आये है आज ये निवास धन्य हो गया। बहुत सरल स्वभाव के साथ वो संतों से मिलते हुए देखे गये। ऐसा नहीं है कि वो सिर्फ इन लोगों के साथ ही ऐसा करते है बल्कि आम जान भी जब पीएम मोदी से मिलते है तो वो उन्हे भी इसी तरह का सम्मान देते है। ऐसा कई बार देखा गया जब पीएम मोदी को किसी कार्यक्रम में लोगों ने पैर छुआ तो वो भी उन्हे छुकर पूरा सम्मान देते हुए नजर आये है।

अब आप खुद बतइये ऐसा करने वाले पीएम मोदी को कुछ लोग तानाशह कहते है। ऐसे में देश की जनता यही कहती है कि अगर तानाशह ऐसा होता है तो उन्हे ऐसे तनाशाह से प्यार है