देश को मोदी सरकार का तोहफ़ा – आजादी की 75 वीं वर्षगांठ पर नया संसद और नया सचिवालय

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

75th anniversary of independence

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का लक्ष्य है अपने देश को पूरी तरह से एक नयी पहचान देने की| बात चाहे दुनिया की नज़रों में भारत के बारे में नजरिये की हो या वैज्ञानिक और सामरिक दृष्टिकोण से भारत की पहचान, मोदी ने देश को हर नजरिये से क्रांतिकारी परिवर्तन देने की कोशिश की है|

अब इसी कोशिश में एक आंतरिक कोशिश है दुनिया के सबसे बाड़े लोकतंत्र के मंदिर को एक नयी पहचान देना| जी हाँ, मोदी सरकार देश को एक नया संसद भवन देने के लिए कमर कस चुकी है| IndiaFirst ने पहले भी अपने पाठकों को इस बाबत खबर दी है, आज हम आपके लिए उसी खबर में अगली कड़ी और भी जानकारी के साथ लेकर आये हैं|

संसद को लेकर क्या है मोदी सरकार का प्लान?

सूत्रों से मिली खबर के मुताबिक मोदी सरकार ने लुटियन्स दिल्ली की रूपरेखा बदलने की दिशा में काम शुरू कर दिया है| इस सिलसिले में सबसे महत्वपूर्ण योजना है देश को एक नया संसद भवन देने का| मोदी सरकार की योजना के मुताबिक देश की 75 वीं वर्षगांठ पर देश को नया संसद भवन और नया सचिवालय देने की योजना है| सरकार के अनुमान के मुताबिक आज़ादी की 75 वीं वर्षगांठ नए संसद भवन में मनाने की ही योजना है|

मोदी सरकार के इस महत्वाकांक्षी योजना के लिए कई राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय एजेंसियों से निविदा आमंत्रित की गयी थी| इस मामले में सम्पूर्ण विचार के बाद सरकार 15 अक्टूबर तक फैसला लेने वाली है|

क्यूँ जरुरी है नया संसद भवन

उल्लेखनीय है की मौजूदा संसद भवन बहुत पुराना है और आज की जरूरतों को पूरा करने में ये पूरी तरह से सक्षम नहीं हो पा रहा है| वर्तमान में सांसदों और मंत्रियों की संख्या और उनके सहयोगी स्टाफ को जरुरी जगह मुहैया करवा पाने में संसद भवन काफी नहीं है| मंत्रियों के कार्य करने के लिए चैम्बर्स तो उपलब्ध हैं, लेकिन सांसदों के बैठने की जगह नहीं है| इसके अलावा बदलती तकनीक और सुरक्षा कारणों से भी संसद भवन समय से पीछे है|

यही हाल सचिवालय का भी है| सभी मंत्रालयों को सचिवालय में जगह मिल पाए उतनी जगह सचिवालय में उपलब्ध नहीं है, जिसके कारण कई मंत्रालयों को किराये के भवनों में जगह दी गयी है| इस कारण मंत्रालयों में आपस में समन्वय की समस्या होती है|

लेकिन प्रधानमंत्री मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट नए संसद भवन और नया सचिवालय भवन बनने के बाद से ये सारी समस्याएँ दूर हो जाएगी| सरकारी काम काज और भी सुचारू रूप से चलेगा|

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •