ऑक्सीजन की कमी को लेकर ऐक्शन मोड में आई मोदी सरकार: उद्योग जगत के साथ बनाई रणनीति

कोरोना का कहर देश में फिर से कुछ राज्यों में देखा जा रहा है जिसके चलते कुछ राज्यों में ऑक्सीजन की कमी देखी जा रही है। अब ऑक्सीजन की कमी न हो तिमारदार को इसके लिये केंद्र सरकार ऐक्शन मोड में आ गई है और मोदी सरकार ने ऑक्सीजन की कमी को दूर करने के लिये उद्योग जगत से बात की है खासकर स्टील प्लांटों और तेल शोधक कारखानों से कोविड मरीजों के लिए पर्याप्त ऑक्सिजन की आपूर्ति सुनिश्चित करने को कहा जा रहा है।

अस्पतालों को पहुंचेगा 20-25 प्रतिशत कोटा

मोदी सरकार की माने तो शुरुआती दौर में स्टील प्लाटों और रिफाइनरियों को कोटे से 20 से 25 प्रतिशत ऑक्सीजन अस्पतालों को भेजा जाएगा। स्टील प्लांटों ने सरकार की अपील पर सकारात्मक जवाब दिया है। हालांकि, देश के एक हिस्से से दूसरे हिस्से तक ऑक्सीजन पहुंचाने की चुनौती है। मसलन, ओडिशा के स्टील प्लांटों से महाराष्ट्र तक ऑक्सीजन पहुंचाना और वो भी जल्द-से-जल्द, आसान नहीं होगा। लेकिन इसको लेकर केंद्र रेलवे के साथ रोड मैप तैयार कर रहा है जिससे जल्द से जल्द राज्यों की कमी दूर की जाये।

फैक्ट्रियों का उत्पादन भी न हो प्रभावित इसके लिए भी बनाई रणनीति

सरकार का ध्यान इस बात पर भी है कि इन फैक्ट्रियों के अपने काम प्रभावित नहीं हों, इसलिए वहां पड़े अतिरिक्त ऑक्सीजन की ही मांग की जा रही है। जानकारो की माने तो सरकार की तरफ औद्योगिक संगठन ऑक्सिजन उत्पादक कंपनियों से बात कर रहे हैं। एक आकलन के मुताबिक, देश में अभी 7.20 अरब मीट्रिक टन ऑक्सिजन उपलब्ध है इनमें आधा अस्पतालों के लिए जबकि आधा फैक्ट्रियों के लिए रिजर्व है।

Maharashtra requested Centre for the supply of oxygen from nearby states -  कोरोना केसों में उछाल से ऑक्सीजन की किल्लत, महाराष्ट्र ने केंद्र से कहा-  पड़ोसी राज्यों से कराओ ...

ऑक्सीजन की कमी से मर रहे मरीज

केंद्र ने कोरोना वायरस की नई लहर के कारण बिगड़े हालात पर काबू पाने के लिए राज्यों से उनकी जरूरतों की खोज-खबर ली। महाराष्ट्र समेत कुछ राज्यों ने केंद्र को ऑक्सीजन कम पड़ने की चेतावनी दे दी है। यही वजह है कि केंद्र ऑक्सीजन की पर्याप्त आपूर्ति की दिशा में कदम उठा रहा है। ध्यान रहे कि न सिर्फ महाराष्ट्र बल्कि मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़,  जैसे कई राज्यों ऑक्सीजन की कमी से कोविड मरीजों की मौतों का मामला सामने आ चुका है। गौरतलब है कि महाराष्ट्र के सीएम ने पीएम मोदी ने ऑक्सीजन को लेकर मदद की बात भी कही है।

ऐसे में मोदी सरकार ने पहले से ही ऑक्सीजन की व्यवस्था को दुरूस्त करने में जुट गई है जिससे कोरोना के बढ़ते मामलो में मरीज को ऑक्सीजन की कमी न हो पाये फिर वो देश का कोई भी राज्य क्यो न हो।