वैक्सीन बनाने वाली कंपनी को मोदी सरकार ने दिया 4500 करोड़ का बूस्टर डोज

देश में कोरोना की बेकाबू रफ्तार पर लगाम लगाने के लिए केंद्र सरकार हरसंभव कदम उठा रही है। केंद्र सरकार ने सोमवार को कोविड टीकाकरण अभियान में और तेजी लाने का फैसला लिया है कि 1 मई से देश में 18 साल से ऊपर की उम्र वालों को भी कोरोना का टीका लगाया जाएगा। ऐसे में वैक्सीन की सप्लाई ना रुके, इसलिए केंद्र सरकार ने भारत में टीका बनाने वाली कंपनियों सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया और भारत बायोटेक को जुलाई तक का 100 फीसदी एडवांस का भुगतान कर दिया गया है।  केंद्र सरकार ने दोनों कंपनियों को कुल 4 हजार 500 करोड़ रुपये की रकम का भुगतान भी किया है।

उत्पादन बढ़ाने के लिए पैसों की जरूरत

इस महीने की शुरुआत में सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के सीईओ अदार पूनावाला ने कहा था कि हमें वैक्सीन का उत्पादन बढ़ाने के लिए करीब 3000 करोड़ रुपये की जरूरत है। उद्योग निकाय फिक्की ने भी हाल ही में सुझाव दिया था कि सरकार को देश में कोविड-19 वैक्सीन के उत्पादन को बढ़ाने के लिए वैक्सीन प्रोड्यूसर को प्रोत्साहन प्रदान करना चाहिए। जिसके बाद कोविशिल्ड का उत्पादन करने वाले कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट को 3,000 करोड़ रुपये और कोवैक्सिन का उत्पादन करने वाली कंपनी भारत बायोटेक को 1500 करोड़ रुपये का भुगतान किया है। बता दें कि पिछले हफ्ते केंद्र ने भारत बायोटेक की बेंगलुरु फैसिलिटी के लिए भी 65 करोड़ अनुदान को मंजूरी दी थी।

केंद्र सरकार सीरम इंस्टीट्यूट से खरीदेगी 1.10 करोड़ कोरोना वैक्सीन, कीमत होगी 200 रुपये प्रति डोज | Zee Business Hindi

18 से अधिक उम्र वालों को मिलेगी वैक्सीन

मोदी सरकार ने वैक्सीन के लिए ये फंड ऐसे समय में दिया है, जब एक मई से 18 साल से अधिक उम्र के सभी लोगों को कोरोना की वैक्सीन लगाए जाने की घोषणा की गई है। अब तक पहले चरण के तहत फ्रंट लाइन वर्कर्स और 60 साल से अधिक उम्र के लोगों को वैक्सीन देने की इजाजत दी गई थी। उसके बाद तीसरे चरण में 45साल और उससे अधिक उम्र के लोगों को वैक्सीन लगाई जा रही है। लेकिन अब अगर देखे तो 18 साल करने के बाद देश की बहुत बड़ी आबादी टीकाकरण के जद में आ जायेगी। वही दूसरी तरफ कुछ लोगो ने टीका की कमी की अफवाह उड़ा कर अपना सियासी उल्लू सीधा करने की चाल भी चली थी लेकिन इसके बाद भी मोदी सरकार ने ये साफ किया था कि टीका की कमी देश में नही है जो बाद में सामने भी आ रहा है कि टीका को लेकर देश में में गलत अफवाह उड़ाई गई थी हालाकि ऐसा कुछ भी देश में नहीं है।

खुद पीएम मोदी ने सोमवार को मैराथन बैठक बुलाकर कोरोना से निपटने के हर तरह के इतंजाम का जायजा लिया और तुरंत ऐक्शन लेकर कमियों को दूर करने का प्लान बनाया जिसके बाद ये सब फैसले लिये गये है जो ये बताते है कि कोरोना के खिलाफ भारत की जंग मजबूती से जारी है।