सैनिकों के परिवारों को मोदी सरकार ने दी बड़ी सौगात, शहीद के परिवार को मिलेंगे अब 8 लाख रुपये

Modi government gave a big gift to soldiers' families, now martyr's family will get Rs 8 lakh

सेना की लंबे समय से चली आ रही मांग को देखते हुए, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने युद्ध में शहीद और घायल सैनिकों के परिवारों को दी जाने वाली आर्थिक सहायता को मौजूदा 2 लाख रुपये से 8 लाख रुपये तक कर दिया है। अधिकारियों ने शनिवार को बताया कि यह आर्थिक सहयोग युद्ध में शहीद और घायल होने वालों के लिए बनाए गए युद्ध हताहत कल्याण कोष (एबीसीडब्ल्यूएफ) के तहत दी जाएगी।

वर्तमान में, मृत्यु के मामले में युद्ध के हताहतों और युद्ध में 60% से ज्यादा विकलांग होने पर जवानों के परिजनों के लिए 2 लाख रुपये की वित्तीय सहायता दी जाती है, जिसे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने अब चार गुना बढ़ाने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है।

फरवरी 2016 में सियाचिन में एक घटना के बाद लड़ाई के हताहतों के परिवारों को आर्थिक सहायता प्रदान करने के लिए बड़ी संख्या में लोगों की पेशकश के बाद एबीसीडब्ल्यूएफ की स्थापना भूतपूर्व सैनिक कल्याण विभाग (ईएसडब्ल्यू) के तहत की गई थी, जहां 10 सैनिक हिमस्खलन में दब गए थे। एबीसीडब्ल्यूएफ को जुलाई 2017 में स्थापित किया गया था और अप्रैल 2016 से इसे पूर्वव्यापी रूप से लागू किया गया था। यह फंड युद्ध के हताहतों और उनके बच्चों के अगले कल्याण के लिए कई मौजूदा योजनाओं के अलावा स्थापित किया गया था। अधिकारियों ने कहा कि एबीसीडब्ल्यूएफ के तहत सहायता के अलावा, पहले से मौजूद आर्थिक अनुदान में 25 लाख रुपये से लेकर 45 लाख रुपये और सेना समूह बीमा के लिए 40 लाख रुपये से लेकर 75 लाख रुपये तक के विभिन्न अनुदान शामिल हैं।

पिछली सरकार में गृह मंत्री के रूप में राजनाथ ने कार्रवाई में मारे गए या घायल हुए अर्धसैनिक कर्मियों के परिवारों की सहायता के लिए ‘भारत के वीर कोष’ की शुरुआत की थी।

बता दे की राजनाथ सिंह का सात अक्टूबर को तीन दिवसीय यात्रा के लिये पेरिस रवाना होने का कार्यक्रम है, जहां आठ अक्टूबर को भारतीय वायुसेना के स्थापना दिवस पर भारत को राफेल लड़ाकू विमान सौंपा जाएगा। फ्रांस को कुल 36 राफेल लड़ाकू विमान सौंपने हैं।

सूत्रों ने कहा कि रक्षा मंत्री विमान हासिल करने के बाद उसमें उड़ान भरेंगे। कार्यक्रम में फ्रांस के शीर्ष सैन्य अधिकारियों के साथ साथ रफाल की निर्माण कंपनी डसो एविएशन के वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद रहेंगे। राजनाथ सिंह 9 अक्टूबर को फ्रांस के शीर्ष रक्षा अधिकारियों के साथ दोनों देशों के बीच रक्षा और सुरक्षा सहयोग बढ़ाने के उपायों पर व्यापक चर्चा करेंगे।