सेना को हाईटेक बनाने में जुटी मोदी सरकार : अब कांपेंगे चीन और पाक

अगर देश की सेना अत्याधुनिक हथियारों से लैस होगी तभी भारत माता पर कोई बुरी नजर नही डाल सकेगा। नमो सरकार देश की सेना को मजबूत करने के लिए लगातार काम भी कर रही है और इसके लिये सरकार ने जहाँ अरसे बाद रक्षा बजट को पहले के मुताबिक काफी बढ़ा दिया है तो नये नये हथियार भी विदेश से खरीद रही है| इसी क्रम मे अब भारत सरकार ने 72 हजार अत्याधुनिक राइफल, 52 ड्रोन, और 111 चॉपर खरीदने को हरी झंडी दे दी है।

यू तो नमो सरकार ने पहले दिन से ही देश की थल, वायु और जल सेना, सभी को मजबूत करने के लिये कदम उठाये है| जिसके लिए अमेरिका, रूस और फ्रांस से सामरिक सौदे भी किये गए है। लेकिन ध्यान देने वाली बात ये है कि बड़ी-बड़ी डील के बीच मे सेना की छोटी छोटी मांगो का भी ध्यान रखा गया है और उन्हे पिछले चार साल मे पूरा भी किया गया है| मसलन अब बुलट प्रूफ जेकेट की मांग को ही ले लीजिये सालों से वो अटकी पड़ी थी, लेकिन नमो सरकार ने उसे तुरंत पूरा करके सेना के जवानो को ये संदेश दिया कि सरकार उनकी हर जरूरत को पूरा करेगी और वो कर भी रही है।

असॉल्ट राइफल से लैस होगे सेना के जवान

अब देश के दुश्मनों की जब शामत आई होगी तभी वो सीमा की तरफ रुख करेगें, क्योकि भारतीय जवानों की तेज नजर और हाथो मे लिये अत्याधुनिक राइफल असॉल्ट से कोई भी बच कर देश मे घुस नही सकता| नमो सरकार ने 72 हजार असॉल्ट राइफल खरीदने के लिये एक करार पर साइन किया है। यहाँ गौर करने वाली बात ये है कि इस राइफल को खरीदने के लिये काफी लंबे समय से मांग चल रही थी, जिसे मोदी सरकार ने पूरा कर दिया है। कई दशक बाद इतनी बड़ी डील की गई है। इस राइफल के साथ सिपाही चीन की सीमा की रखवाली करेंगे।

इजराइली ड्रोन से होगी देश की सीमा की निगरानी

भारतीय वायु सेना की मानवरहित युद्ध क्षमता को और मजबूत बनाने के लिए रक्षा मंत्रालय ने 54 इजरायली HAROP ड्रोन की खरीद को मंजूरी दे दी है| ये किलर ड्रोन दुश्मन के हाई-वैल्यू मिलिट्री टारगेट को पूरी तरह से नेस्तनाबूद कर सकता है।आपको बता दें ये ड्रोन इलेक्ट्रो-ऑप्टिकल सेंसर से लैस होते हैं, जो विस्फोट करने से पहले हाई वैल्यू वाले सैन्य ठिकानों जैसे निगरानी के ठिकाने और रडार स्टेशनों पर निगरानी भी कर सकते हैं| इजराइल के हारोप ड्रोन दुश्मन ठिकानों पर क्रैश होकर उन्हें तबाह कर देते हैं| मौजूदा समय में वायुसेना के पास ऐसे 110 ड्रोन हैं, जिनका नाम पी-4 रखा गया है।

वायुसेना की मजबूती के लिए चॉपर की नयी खेप

इसके साथ-साथ भारतीय वायुसेना को मजबूत करने के लिये 111 चॉपर भी खरीदे जायेगे| हालाकि अभी चंद दिनो पहले ही 19 चिनूक चॉपर वायु सेना के बेड़े मे शामिल हो गये है। चिनूक की बात करें तो ये वही हैलिकप्टर है जिसके जरिये लादेन को पाकिस्तान मे जाकर अमेरिका ने मारा था। वहीँ ये भारी मशीन और सेना के अस्त्रो को एक स्थान से दूसरे स्थान ले जाने मे माहिर है, साथ ही इसमे हाईटेक बंदूके लगी हुई है।

मतलब साफ है, नमो सरकार जब से सत्ता मे आई है तब से ही सेना की बड़ी औऱ छोटी दोनो मांगों को पूरा करने मे जुटी हुई है। क्योकि वो अच्छी तरह जानती है कि देश की सेना मजबूत तो देश मजबूत|