पार्टी के बुजुर्ग नेताओं का सम्मान मोदी जी करना नहीं भूलते

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Modi does not forget to respect the elderly leaders of the party

प्रधानमंत्री मोदी  का गुण है कि वह पार्टी के किसी बड़े नेता का सम्मान करना कभी नहीं भूलते है। रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने  पुणे के रूबी हॉल क्लिनिक में पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी से मुलाकात की। अरुण शौरी को 1 दिसंबर को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा, ‘पुणे में मेरी मुलाकात पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी जी से हुई। उनके स्वास्थ्य के बारे में जाना की और अच्छी बातचीत रही। हम उनकी लंबे और स्वस्थ जीवन के लिए प्रार्थना करते हैं।’

शौरी लवासा में अपने बंगले के निकट टहलने के दौरान एक दिसंबर को गिर गए थे, जिसके बाद उनका अस्पताल में इलाज चल रहा है। डॉक्टरों ने कहा था कि 78 साल के पूर्व भाजपा नेता को दिमाग में चोट आई है और सूजन है। वह सीधे गिरे थे, इसलिए उनके सिर के पिछले हिस्से में चोट आई। उन्हें गिरने से आंतरिक चोट आई और सिर में सूजन आ गई।

शौरी भाजपा के पूर्व राज्यसभा सदस्य हैं। वह 1999-2004 में अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में केंद्रीय संचार, सूचना प्रौद्योगिकी एवं विनिवेश मंत्री थे रमन मैग्सेसे पुरस्कार से सम्मानित शौरी ने 1967- 1978 के दौरान विश्व बैंक के साथ एक अर्थशास्त्री के रूप में भी काम किया है। शौरी ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ के संपादक भी रहे हैं।

पिछले कुछ सालों से अरुण शौरी मोदी सरकार के आलोचक रहे हैं। वो पीएम मोदी पर लगातार हमले करते रहे हैं। राफेल सौदे को लेकर शौरी ने मोदी सरकार की खुलेआम आलोचना की थी और इस मुद्दे पर बेहद मुखर रहे थे। अर्थव्यवस्था को लेकर भी पीएम मोदी को खूब घेरा।

मोदी जी हमेशा पार्टी के बुजुर्ग नेताओं का सम्मान करते है और समय समय पर उनसे मिलके आशीर्वाद लेने जाते है। गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव-2019 में प्रचंड जीत से गदगद एनडीए की संसदीय दल की बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पार्टी के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी और शिरोमणि अकाली दल के नेता प्रकाश सिंह बादल के पैर छूए और आशीर्वाद लिया। इससे पहले 23 मई को लोकसभा चुनाव-2019 में प्रचंड जीत हासिल करने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह ने पार्टी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी से मुलाकात की थी। इस दौरान भी पीएम मोदी ने आडवाणी से जीत का आशीर्वाद लिया था। प्रधानमंत्री मोदी ने वाराणसी में नामांकन दाखिल करने से पहले शिरोमणी अकाली दल के नेता प्रकाश सिंह बादल का चरण स्पर्श किया था।

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •