अलौकिक सुंदरता से भरा होगा, भगवान राम का मंदिर

राम मंदिर के भूमि पूजन से पहले प्रस्तावित मॉडल की तस्वीरें सामने आ गई है। राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र की ओर से जारी की गई तस्वीरों में भव्य राम मंदिर की झलक देखी जा सकती है। रामलला के मंदिर के लिए पुराने डिजाइन में बदलाव किया गया है। यह मंदिर नागर शैली में होगा। मंदिर में अब 5 मंडप वाला गुंबद और एक शिखर होगा। मंदिर की ऊंचाई 161 फीट की होगी।

करीब साढ़े तीन साल में बनेगा मंदिर

कल भूमिपूजन पीएम के द्वारा होने के बाद राममंदिर निर्माण के कार्य में तेजी के साथ आगे बढ़ेगा कयास लगाया जा रहा है आर्किटेक्ट प्रॉजेक्ट के अनुसार मंदिर को बनकर तैयार होने में तीन से साढ़े तीन साल का समय लगेगा। मंदिर तीन मंजिला होगा और यह वास्तुशास्त्र के हिसाब से बनाया जाएगा। इसके प्रथम तल में रामलला तो दूसरे तल पर भगवान राम का राजदरबार होगा। मंदिर के शिखर की ऊंचाई बढ़ाकर 161 फुट की गई है। इसके साथ ही गुंबदों की संख्या तीन से बढ़ाकर पांच की गई है। मंदिर के जमीन का आकार भी बढ़ा दिया गया है जहां रामलला का गर्भगृह बनेगा, उसके ऊपर के हिस्से को ही शिखर बनाया जाएगा। वहीं पांचों गुंबदों के नीचे के हिस्से में चार हिस्से होंगे। इसमें सिंहद्वार, नृत्य मंडप, रंगमंडप बनेंगे। यहां श्रद्धालुओं के बैठने विचरण करने और विविध कार्यक्रम आयोजित करने के लिए जगह रहेगी।

जमीनी क्षेत्रफल में किया गया इजाफा

मंदिर की भव्यता बढ़ाने के लिए इसका जमीनी क्षेत्रफल भी बढ़ाया गया है। मंदिर में पत्थर वही लगेंगे जो राम मंदिर कार्यशाला में तराश कर रखे गए हैं। इन पत्थरों की साफ सफाई कर चमकानें का काम दिल्ली की कंपनी कर रही है। मिट्टी परीक्षण की रिपोर्ट के आधार पर मंदिर के लिए नींव की खुदाई होगी। यह 20 से 25 फीट गहरी हो सकती है। प्लैटफॉर्म कितना ऊंचा होगा इस पर निर्णय राम मंदिर ट्रस्ट करेगा। अभी 12 फीट से 14 फीट तक की ऊंचाई की बात चल रही है। इसके साथ-साथ मंदिर के आसपास के इलाके को भी खूब चमकाने का काम किया जायेगा। यानी कि अयोध्या नगरी को प्रभु राम के लिए बिलकुल नये तरीके से सजाया और बसाया जायेगा। सरयू के घाटों का भी नवीनीकरण किया जायेगा। मंदिर निर्माण के साथ-साथ विशेष तरह की लाइटिंग और हरियाली रखने पर भी विशेष तैयारी की कई है। जिससे एक भव्य मंदिर बनकर तैयार हो सके। वैसे मंदिर की जो तस्वीरें आई है उससे ये साफ होता है कि मंदिर बनने के बाद ये काफी भव्य और अपने आप में अनोखा मंदिर होगा। इसकी खूबसूरती दुनिया के किसी भी मंदिर को मात देने के लिए काफी  होगी। रामलला के इस मंदिर के बन जाने के बाद इस इलाके का विकास भी किया जा रहा है जिसके चलते रेलवे ने अयोध्या के नये स्टेशन बनाने की तैयारी शुरू कर दी है। मंदिर के साथ-साथ स्टेशन को भी मंदिर के रूप में ही डिजाइन किया जा रहा है। माना जा रहा है कि मंदिर निर्माण के वक्त स्टेशन भी बनकर तैयार हो जायेगा।

कुल मिलाकर भगवान राम के इस मंदिर निर्माण को भव्य बनाने की पूरी तैयारी हो चुकी है। बस अब तो वो दिन देखना है। जब  भगवान राम अपने सभी भाइयों के साथ इस भव्य मंदिर की शोभा बढ़ाएंगे।