सेना को मिली बड़ी कामयाबी तीन आतंकी ढेर ,बुरहान वानी ग्रुप का अंतिम कमांडर भी मारा गया

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

encouter_j_and_k

प्रधानमंत्री के ओर से सेना को खुली छूट मिलने के बाद, जम्मू कश्मीर में सेना लगातार सर्च ऑपरेशन चला रही है| जिनमे आएं दिन कई आतंकी या तो पकड़े जाते हैं या फिर एनकाउंटर में मारे जाते हैं| पहली बार ऐसा हुआ है जब सेना को घाटियों में इतनी छूट मिली है जिसका परिणाम हमलोग देख रहे हैं| बीते दो दिन पहले एक कश्मीरी पंडित 29 साल बाद अपने घर को लौटा है, जी हाँ लौटने के बाद उन्होंने कहा कश्मीर जैसा जगह इस दुनिया में कोई नहीं| जिस तरह से सेना लगातार अपना ऑपरेशन चला रही है वो दिन दूर नही जब पुरे जम्मू कश्मीर में अमन चैन होगा और कश्मीर पंडित अपने घर को लौट पायंगे|

आपको बता दें कि आज जम्मू-कश्मीर के शोपियों में आतंकवादियों के बीच हुई मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने तीन आतंकवादियों को मार गिराया है| दो की पहचान लतीफ टाइगर और तारिक मौलबी के तौर पर की गई है। वहीँ तीसरे की पहचान की जा रही है। साथ ही मौके से भारी मात्रा में हथियार और गोला-बारूद बरामद किए गए हैं। पूरे इलाके में सर्च ऑपरेशन चलाए जा रहे हैं और अभी पूरे इलाके में इंटरनेट सेवा भी रोक दी गई है। इसके अलावा दक्षिण कश्मीर में ट्रेनों का परिचालन भी बंद है। इस एनकाउंटर में सेना के एक जवान के घायल होने की भी खबर है।

सेना ने बताया कि शुरुआत में दोनों पक्षों के बीच कुछ देर गोलीबारी हुई, जिसके बाद सुरक्षा बलों ने घेराबंदी मजबूत की ताकि आतंकवादी बच कर भाग न पाएं। अधिकारी ने बताया, ‘‘अभियान में तीन आतंकवादी मारे गए हैं। मुठभेड़ स्थल से हथियार बरामद किए गए हैं।’’ मारे गए आतंकियों में हिजबुल कमांडर लोन बुरहान समुह सदस्य लतीफ टाइगर, तारिक मोलवी और शरीक अहमद है। ऐसा माना जाता है कि मारे गए आतंकवादियों में से एक लतीफ ‘टाइगर’ हिजबुल कमांडर बुरहान वानी के 10 साथियों में से आखिरी बचा हुआ आतंकवादी था।

terrorist

आपको बता दें कि लतीफ पुलवामा के डोगरीपोरा का रहने वाला था। जबकि तारिक मोलवी शोपियां के मल्लू चैतराम का रहने वाला था। वहीं शरीक अहमद शोपियां के चोटीगाम का बताया जाता है। विश्वस्त सूत्रों से मिल रही जानकारी के मुताबिक लतीफ टाइगर, बुरहान वानी ग्रुप का अंतिम कमांडर था। वर्ष 2015 में हिजबुल मुजाहिद्दीन कमांडर बुरहान वानी के साथ आतंकवादियों की एक तस्वीर जारी हुई थी। उनमें से एक तारिक पंडित को 2016 में जिंदा पकड़ लिया गया था। लतीफ टाइगर के खात्मे के साथ ही सुरक्षाबलों के द्वारा सभी आंतकियों को ढेर कर दिया गया है।

एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि कुछ लोगों ने मुठभेड़ स्थल के पास आतंकवाद विरोधी अभियान में लगे सुरक्षा बलों पर पथराव किया जिसके बाद प्रदर्शनकारियों और कानून प्रवर्तन कर्मियों के बीच झड़पें हुईं। उन्होंने बताया कि उपद्रवियों को भगाने की सुरक्षा बलों की कार्रवाई में दो लोग मामूली रूप से घायल हो गए।


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •