इसरो के चंद्रयान 2 की वाहवाही पडोसी देश चीन में भी

ISRO's Chandrayaan 2

चंद्रयान 2 अभियान में इसरो के द्वारा हासिल की गयी कामयाबी को पडोसी देश चीन में खासी वाहवाही मिल रही है| वहाँ की जनता ने खुल कर चीनी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर इसरो की खुली सराहना की है और इसरो को अपना प्रयास जारी रखने को कहा है| वहां की जनता के साथ-साथ चीनी वैज्ञानिको तथा चीनी मीडिया ने भी इसरो के अभियान की खुले मन से सराहना की है|

चीन के सरकारी मीडिया ग्लोबल टाइम्स में चीनी जनता द्वारा सोशल मीडिया पर व्यक्त उद्गारों के साथ एक विस्तृत रिपोर्ट छपी है| चीनी मीडिया में खास खबर के रूप में, “भारत का साहसिक अभियान, चंद्रमा से मात्र 2.1 किमी की दूरी पर विक्रम का टूटा संपर्क”, शीर्षक से रिपोर्ट छपी थी| जबकि वहाँ की जनता ने सोशल मीडिया पर इस बात को तरजीह दी कि अन्तरिक्ष के क्षेत्र में किसी भी देश के द्वारा हासिल की गयी उपलब्धि तारीफ के काबिल है|

चीनी वैज्ञानिकों के मुताबिक चन्द्रमा पर सॉफ्ट लैंडिंग में चीन भी अपने प्रथम प्रयास में सफल नहीं हो पाया था| उल्लेखनीय है कि चैंग-ई-3 को चीन ने चन्द्रमा पर सॉफ्ट लैंडिंग के लिए प्रक्षेपित किया था, जो सफल नहीं हो पाया था| इस असफल प्रयास से सीख लेकर चीन ने दुबारा चैंग-ई-4 लॉन्च किया जो चाँद पर सॉफ्ट लैंडिंग करने में कामयाब हो सका था|

इसरो के द्वारा चाँद के दक्षिण ध्रुव पर भेजे गए विक्रम लैंडर से अंतिम समय में संपर्क टूट जाने के बाद भी इसको की कामयाबी कर परचम पूरी दुनिया में लहरा रहा है| जो देश अन्तरिक्ष विज्ञान और अनुसंधान में भारत से पीछे हैं, उनकी तो छोडिये; जो देश इस क्षेत्र में अपनी कामयाबी का परचम लहरा चुके हैं उन्होंने भी भारतीय अन्तरिक्ष अनुसंधान एजेंसी इसरो की दिल खोल कर सराहना की है|

बता दें की चंद्रयान 2 के ऑर्बिटर ने विक्रम लैंडर को खोज निकाला है और विक्रम पूरी तरह से सही सलामत है| इसरो के वैज्ञानिक इस से दुबारा संपर्क स्थापित करने की कोशिश में लगे हैं| अगर वो कामयाब हो गए तो विक्रम फिर अपने मकसद में जरुर कामयाब हो जायेगा|