नोएडा में प्लास्टिक कचरे से बने विश्व के सबसे बड़े चरखे का स्मृति ईरानी ने किया लोकार्पण

world's largest spinning wheel made of plastic waste

नोएडा प्राधिकरण ने महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के मौके पर एक चरखा बनवाया है, जिसका उद्घाटन आज केंद्रीय कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी व गौतमबुद्ध नगर सांसद डा. महेश शर्मा ने किया। यह चरखा सिंगल यूज प्लास्टिक से बनाया गया है। इस मौके पर नोएडा की मुख्य कार्यपालक अधिकारी ऋतु महेश्वरी और नोएडा के विधायक पंकज सिंह भी मौजूद रहे।

Charkha_in_delhi

नोएडा विकास प्राधिकरण ने शहर के सेक्टर-94 में महामाया फ्लाईओवर के पास प्लास्टिक कचरे से 20 फीट लंबा और 14 फीट ऊंचा चरखा बनकर बनवाया है। प्राधिकरण का दावा है कि प्लास्टिक कचरे से बना यह विश्व का सबसे बड़ा चरखा है। प्राधिकरण अधिकारियों ने बताया कि इसे प्लास्टिक वेस्ट से बने सबसे ऊंचे चरखे का प्रमाण भी मिलेगा।

spinning wheel made of plastic waste in Noida

चरखा 14 फीट लंबा और 8 फीट चौड़ा है। इसे बनाने के लिए 1,250 किलोग्राम प्लास्टिक कचरे का प्रयोग किया गया है। इसका कुल वजन 1,650 किलोग्राम है। नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस वे से गुजरते वक्त सेक्टर-94 के पास यह चरखा देखने के लिए मिलेगा। इस चरखे की खासियत यह है कि यह पूरी तरह से मूव करता है। चरखे को घुमाने पर सूत कातने तक की हर गतिविधि इसमें होती है।

नोएडा प्राधिकरण के अधिकारियों के मुताबिक, चरखा गांधीजी के सपने स्वदेशी का प्रतीक है। प्राधिकरण की सीईओ रितु महेश्वरी ने कहा, यह लोगों में प्लास्टिक के सही उपयोग के प्रति जागरुकता लाने के लिए है। उन्होंने अपने बयान में कहा की, ‘‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बार में इस्तेमाल होने वाले प्लास्टिक का उपयोग बंद करने का आह्वान किया है और नोएडा प्राधिकरण इस दिशा में प्रयास कर रहा है।