मोदी राज में गांवों तक इंटरनेट पहुंचाने पर ज़ोर, अगले वर्ष मार्च तक दो लाख ग्राम पंचायतों को इंटरनेट और ब्रॉडबैण्ड कनेक्शन

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Emphasis on providing internet to villages under Modi rule

मोदी राज में डिजिटल इंडिया के काम में हमेशा से ही फोकस रहा है। प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में देश तेजी से डिजिटल इंडिया में बदल रहा है। मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में देश को डिजिटल बनाने के लिए कई कदम उठाए गए। वहीं दूसरे कार्यकाल में भी इस दिशा में लगातार कोशिशें जारी हैं।

Internet and broadband connection to two lakh gram panchayats by March next year

प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में ग्रामीण भारत में इंटरनेट पहुंचाने का काम तेजी से हो रहा है। सरकार ने अगले साल मार्च तक दो लाख ग्राम पंचायतों को इंटरनेट और ब्रॉडबैंड कनेक्शेन उपलब्ध कराने का लक्ष्य रखा है। आज राज्यसभा में एक लिखित उत्तर में इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बताया कि इस महीने की 7 तारीख तक कुल एक लाख 28 हजार से अधिक ग्राम पंचायतों को यह सेवा उपलब्ध कराई जा चुकी है।उन्हों ने कहा कि अब तक लगभग 45 हजार ग्राम पंचायतों में वाई-फाई हॉटस्पॉट स्थापित कर दिये गए हैं और 16 हजार से अधिक ग्राम पंचायतों में सेवाएं प्रदान की जा रही हैं। सभी गांवों को हाई स्पीड इंटरनेट सेवाओं से जोड़ने के लिए केंद्र सरकार ने भारत नेट कार्यक्रम शुरू किया है, इसके 20 करोड़ से भी ज्यादा ग्रामीण आबादी लाभान्वित होगी। देश की सभी ग्राम पंचायतों को इंटरनेट सेवा से जोड़ने के लिए भारत नेट योजना के तहत सभी ग्राम पंचायतों को ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क से जोड़ा जा रहा है।

optical_fiber

देश को ऑप्टिकल फाइबर से जोड़ने की दिशा में मोदी सरकार किस तेज रफ्तार से काम कर रही है, इसका अंदाजा आपको इससे होगा कि 2011 में शुरु हुई भारत नेट योजना के तहत 2014 तक यूपीए शासनकाल के दौरान सिर्फ 358 किलोमीटर ऑप्टिकल फाइबर बिछाया गया था। जबकि प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में नवंबर, 2019 तक 3,83,462 किलोमीटर ऑप्टिकल फाइबर का जाल फैलाया जा चुका है। भारत नेट परियोजना ने प्रतिदिन 800 किलोमीटर ऑप्टिकल फाइबर डालकर विश्व रिकॉर्ड बनाया है। ग्रामीण क्षेत्र में इंटरनेट की पहुंच से 20 करोड़ से ज्यादा ग्रामीण आबादी को स्वास्थ्य, शिक्षा, रोजगार, कौशल, ई-कृषि, ई-वाणिज्य जैसे सेवाओं तक पहुंचने में मदद मिलेगी, और सही मायने में डिजिटल तौर पर देश का सर्वांगीण विकास हो सकेगा।

प्रधानमंत्री मोदी की दूरदर्शी सोच और मजबूत इच्छाशक्ति के कारण आज भारत में सबसे सस्ता दर पर इंटरनेट डेटा उपलब्ध है। भारत में इंटरनेट डेटा का सस्ता होना डिजिटल क्रांति में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। एक रिपोर्ट में कहा गया है कि 230 देशों में भारत में सबसे कम कीमत में डेटा उपलब्ध कराया जाता है। सस्ते डाटा की इस रेस में भारत ने अमेरिका जैसे देशों को भी पीछे छोड़ दिया है। जियो की मार्केट में एंट्री के बाद से ही सभी टेलिकॉम कंपनियों के बीच प्राइस वॉर छिड़ गई है और यह वॉर अब तक जारी है।

प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार डिजिटल इंडिया की मुहिम को जन जन तक पहुंचाने में लगी हुई है।

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •