सफाई के मामले में इंदौर यूं ही नहीं है नंबर वन!

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

आखिर ऐसा क्या है इंदौर शहर में जो वो हर बार स्वच्छता सर्वेक्षण में नबंर वन रहता है ये बात ज्यादातर उन लोगों के मन में बहुत आता होगा जो इंदौर गये नही है। लेकिन इंदौर हर बार शिखर पर क्यो रहता है उसकी कई वजह है जिसका जिक्र आज हम आपसे करते है।

नगर निगम का विशेष सफाई पर रहता है जोर

इंदौर में स्वच्छता को लेकर नगर की निकाय काफी संजीदा है। जिसका परिणाण ये है कि शहर में साफ सफाई खूब देखी जाती है। इसके लिए निकाय प्रशासन ने कई तरह के कदम उठाए हैं। जैसे लोगों की सहूलियत के लिए घर घर जाकर कूड़ा उठाना हो या फिर सड़क की सफाई क्यो ही न हो। यहां आपको ये बता दे कि इंदौर शहर में सुबह और शाम दो वक्त साफ सफाई की जाती है। जबकि बाकी शहरों ज्यादातर सुबह के वक्त ही सफाई की जाती है। लेकिन इंदौर की निकाय सुबह शाम दो वक्त कूड़ा उठाती है। इसके साथ साथ शहर की हर सब्जी मंडी में कूड़ा के लिये कूड़ेदान को लगाया गया है। जिसमें कूड़ा फेक दिया जाता है। ऐसे ही शहर के हर इलाके में गीला कचरा और सूखे कचरे को फेकने की अलग व्यवस्था की गई है। इसके साथ साथ यहां के सफाई कर्मचारी की लगन का ही परिणाम है कि इंदौर हर बार अव्वल आता है। उदाहरण के लिए एक विडियो आजकर खूब चर्चा में है जिसमे सफाई कर्मी बारिश के बीच में भी शहर की सफाई के काम में लगे है और उनकी यही इच्छा शक्ति का परिणाम है कि शहर सफाई के मामले में देश के बड़े बड़े शहरो से काफी आगे है।

प्रशासन और जनता के बीच समन्वय कमाल

आम तौर पर हम देखते है कि ज्यादातर शहरो में सफाई के मामले में देश की जनता भी कुछ नीरस ही दिखती है। ये बात और है कि मोदी जी ने जब से देश में साफ सफाई का अभियान शुरू किया है देश की जनता भी जागरूक होकर उनके साथ जुड रही है और साफ सफाई में हिस्सा ले रही है। लेकिन जैसा समन्वय इंदौर प्रशासन और जनता का है उसकी तारीफ करना ही चाहिये क्योकि सफाई कर्मियों के साथ साथ अपने शहर को साफ रखने में जनता का भी बहुत बड़ा रोल देखा जा रहा है। इंदौर में इसके लिए समय समय पर जागरूक अभियान किये जाते है जिसके चलते शहर के बड़े बाजारों और भीड़भाड़ वाली जगाहो पर सफाई कैसे बनाये रखा जाये इसपर काम किया जाता है। जिसका असर है कि इंदौर शहर हर तरफ चमकता हुआ दिखाई देता है।

 

वैसे शहर को साफ सुधरा बनाने के लिये कोई रॉकेट साइंस की जरूरत नही है। बस पक्के इरादे की जरूरत है जो इंदौर में खूब देखने को मिला है। ऐसे में अब अपने शहर को अगर साफ सफाई में नंबर वन बनाना है तो हमें भी ये प्रण करना होगा कि अपने आसपास साफ सफाई रखेगे। तो शहर की निकाय प्रशासन को भी ये सोच कर काम करना होगा कि ये अपना शहर इसे साफ रखना हमारी जिम्मेदारी है। बस फिर क्या देखिए अगली बार स्वच्छता सर्वेक्षण में आपका शहर न चमके तो फिर बात ही क्या…


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •