भारत के दुश्मन खबरदार,भारत के पास है, अपाचे, चिनूक, राफेल जैसे घातक हथियार

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

जर्मनी के नेता हिटलर ने एक बार भारतीय फौज की तारीफ करते हुए बोला था कि अगर उनके पास भारतीय फौज हो तो वो सारी दुनिया महज कुछ घंटो में जीत सकते हैं। यानी कि भारतीय फौज के शौर्य का लोहा आज से नही बल्कि युगों से दुनिया मान रही है। ऐसे में अगर भारत की फौज के पास अस्त्र एक से एक अत्याधुनिक आ जाये तो आप समझ सकते हैं कि इस फौज का कोई सामना नही कर सकता है। शायद यही बात पीएम मोदी भी मानते हैं तभी तो वो भारतीय फौज के तीनो विंग जल, थल, नभ तीनो को मजबूत करने में लगे हुए हैं। खासकर भारतीय वायुसेना को उन्होने बीते कुछ सालो में इतना मजबूत कर दिया है कि दुश्मन भारत के आसमान में आने से पहले अब 10 बार सोचता है। आइये जानते है कि मोदी जी ने वायुसेना को कौन से ऐसे अस्त्र दिये है जिससे उसकी ताकत दोगुनी हो गई है।

राफेल

यूं तो भारत के पास कई बेहतरीन लड़ाकू विमान हैं लेकिन अब वायुसेना के बेड़े में राफेल विमान भी शामिल हो गया है। राफेल यानी तूफान जी हां अपने नाम की तरह राफेल सच में किसी तूफान से कम नही है। जो दुश्मन पर जब अपने हथियार गिराता है तो फिर दुश्मन के पास इसका कोई जवाब नही रहता।

राफेल की खुबियां

  • राफेल को दुनिया का सबसे ताकतवर लड़ाकू विमान माना गया है
  • हवा से हवा में और हवा से जमीन में निशाना लगाने की क्षमता
  • स्काल्प मिसाइल, मीटियॉर मिसाइल और हैमर मिसाइल से है लैस
  • किसी भी राडार को चकमा देने की है ताकत
  • राफेल की गति 2450 किलोमीटर प्रति घंटा है
  • इसकी लंबाई30 मीटर और ऊंचाई 5.30 मीटर है. राफेल का विंगस्‍पैन सिर्फ 10.90 मीटर है, जो पहाड़ी क्षेत्र में उड़ने के लिए आदर्श एयरक्राफ्ट बनाता है

अपाचे हेलीकॉप्टर

आपाचे नाम ही काफी है। इस नाम को सुनते ही दुश्मन के दिल हिल जाते हैं। अमेरिका से लिए गये इन हेलीकॉप्टर के भारतीय वायुसेना में शामिल हो जाने से शक्ति काफी अधिक बढ़ गई है। चीन के तनाव के बीच अपाचे ने जिस तरह से सीमा पर काम कर रहा है उसे देखकर यही लगता है कि वायुसेना को एक अचूक अस्त्र इस रूप में मिला है। अपाचे की कुछ खास खूबियों से आप को रूबरू करवाते हैं —

  • ‘फ्लाइंग टैंक’ नाम से मशहूर दुनिया के सबसे घातक हेलीकॉप्टर
  • रात हो या दिन बेहद कम ऊंचाई से हवाई और जमीनी हमले में सक्षम
  • दुश्मनों का रडार को भी देता है चकमा
  • अपाचे है 16 एंटी टैंक एजीएम-114 हेलफायर और स्ट्रिंगर मिसाइल से लैस

 

चिनूक

हाल ही में वायुसेना में शामिल हुए चिनूक हेलीकॉप्टर से वायुसेना की ताकत में बहुत ज्यादा इजाफा हुआ है। खासकर अब सेना अपने जवानों को रसद कठिन से कठिन स्थानो तक बेहत कम समय में पहुंचा पा रही है। तो वही इसके जरिये केरल बाढ़ हो या फिर अभी कुछ दिन पहले आये उड़ीसा और बंगाल में तूफान के वक्त जिस तरह से इसने बचाव कार्य में लोगो की सहायता की थी उससे यही लगता है कि मोदी सरकार ने  बहुत अच्छा सौदा किया है। इस हेलीकॉप्टर के आने के बाद सीमा पर बन रही सड़कों के निर्माण में भी काफी तेजी आई है क्योंकि इसके जरिये कई टन सामान आराम से दुर्गम से दुर्गम स्थानो तक पहुंचाया जा रहा है और इसकी क्या खासियत है आप ऐसे समझ सकते हैं…

  • यह एक मल्टीमिशन श्रेणी का हेलीकॉप्टर
  • रात में भी उड़ान भरने और ऑपरेशन करने में सक्षम
  • 11 टन सामान और 45 सैनिकों का भार वहन करने की अधिकतम क्षमता
  • विमान की भांति एकीकृत डिजिटल कॉकपिट मैनेजमेंट सिस्टम

मतलब साफ है कि मोदी सरकार सेना को मजबूत करने के लिए लगातार काम कर रही है और सेना को वो हथियार मोहइया करवा रही है। जिससे देश की सीमा पर दुश्मन कमजोर और हमारे जवान मजबूत होते जा रहे हैं। ऐसा नही कि मोदी सरकार सिर्फ वायुसेना को ही मजबूत कर रही है। थल सेना और नौसेना के लिये भी नये हथियार तेजी से लिये जा रहे हैं जिससे देश के दुश्मन देश पर बुरी नजर न डाल पाये।


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply