भारत की बहादुर बेटियों ने विदेशी ज़मीन पर दिया पाकिस्तान को उसके नापाक हरकत का मुहतोड़ जवाब

India's brave daughters fights for our National Flagहमारे देश में बचपन से ही हमें बताया जाता है की हमारे देश का राष्ट्रीय झंडा, हमारा तिरंगा, देश के गौरव और प्रतिष्ठा का प्रतीक है जिसके सम्मान की सदा रक्षा करना हर भारतीय नागरिक का कर्त्तव्य है | और फिर धीरे-धीरे हम बड़े हो जाते है, अपने-अपने दिनचर्या में व्यस्त हो जाते पर बचपन में सिखाई गयी ये बात हमारे ज़हन से नहीं जाती बल्कि बढती उम्र के साथ हमारा ये देश प्रेम और तिरंगे के प्रति सम्मान और भी मजबूत होता जाता है | तभी तो हिन्दुस्तानी चाहे दुनिया के किसी कोने में हो देश के प्रति और तिरंगे के प्रति उसका कर्त्तव्य कभी कमज़ोर नहीं पड़ता |

इसका सटीक उदहारण भी हमें देखने को मिला है और वो भी ये कमाल हमारे देश की बहादुर बेटियों ने कर दिखाया है | जी हाँ भारत की दो बहादुर बेटियां शाज़ियाँ इल्मी और पूनम जोशी ने बिना अपनी फिकर किये तिरंगे की शान की खातिर उन पाकिस्तानियों से भीड़ पड़ी पड़ी जो भारतीय तिरंगे का अपमान करने की कोशिश कर रहे थे | रोचक बात ये रही की ये पूरी घटना न तो भारतीय ज़मीन पर हुई और न ही पाकिस्तानी ज़मीन पर | बल्कि इन दोनों घटनाओ में एक घटना दक्षिण कोरिया का है जबकि दूसरा लंदन का है | चलिए आपको बताते है असली मामला क्या है |

दरअसल 16 अगस्त को भाजपा की नेता शाजिया इल्मी और उनके साथ दो और लोग यूनाइटेड पीस फेडरेशन कांफ्रेंस में हिस्सा लेने के लिए दक्षिण कोरिया के राजधानी सियोल गए हुए थे | कांफ्रेंस ख़त्म होने के बाद जब शाजिया भारतीय दूतावास से मिलने के लिए होटल रवाना हो रही थी उसी दौरान उन्होंने देखा की लगभग 300 पाकिस्तानियों की भीड़, पाकिस्तान का झंडा हाथ में लेकर खड़ी है और आक्रामक तरीके से भारत और भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर गलत नारेबाजी कर रही है और उनके लिए अपशब्द भी बोल रही है | शाजिया कहती है की–‘इस दृश्य को देखकर हमें बहुत गुस्सा आया है और हमें लगा की ये हमारा परम कर्त्तव्य है की हम इन लोगो को अपने देश और प्रधानमंत्री का अपमान करने से रोके और इसलिए हमने ऐसा ही किया |’ शाजिया के इस बहादुरी का विडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है और साथ ही खूब सराहा भी जा रहा है | इस पुरे घटना की जानकारी खुद शाजिया ने ट्विटर के ज़रिये साझा की और साथ ही लिखा- ‘300 के मुकाबले तीन |’

दूसरी घटना है पत्रकार पूनम जोशी की जिन्होंने लंदन में तिरंगे का अपमान कर रहे पाकिस्तानी प्रदर्शनकारियों से अकेले भीड़ गयी और उनके हाथ से तिरंगा छीन लिया | 15 अगस्त को आज़ादी के 73वे वर्षगांठ पर लंदन स्थित भारतीय उच्चायोग में भी झंडोतोलन किया गया | हालाँकि पाकिस्तान की नापाक हरकत का नज़ारा यहाँ पर भी देखने को मिला | जी हाँ यहाँ पर भी कुछ पाकिस्तान और खालिस्तान के समर्थकों ने प्रदर्शन शुरू कर दिया और गुंडागर्दी पर उतर आये | जब उन लोगों ने तिरंगे का अपमान करने की कोशिश की तब पूनम जोशी ने आव देखा न ताव, झट से उनके हाथ से अपने तिरंगा छीन लिया | पूनम जोशी के इस बहादुरी का विडियो भी सोशल मीडिया पर पोस्ट हुआ है और खासा शेयर भी किया जा रहा है | इस पूरी घटना पर पूनम जोशी कहती है की- ‘ऐसे लोगो से निपटने के लिए मैं अकेली ही काफी हूँ |’

सबसे बड़ी बात है की पाकिस्तान ने अपने नागरिकों द्वारा ये जो जलील हरकतें करवाई है, इसका मुहतोड़ जवाब दिया है देश की बेटियो ने और ये भी साबित कर दिया है की पाकिस्तान अपनी नापाक हरकतों के लिए कहीं भी नहीं बक्शा जायेगा चाहे वो हिंदुस्तान की सरज़मीन हो या फिर विदेश की |