फिर दिखा मोदी मैजिक – घर लौटे 389 भारतीय

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

दुनियाभर में कहर बरपा रहे कोरोनावायरस से अपने देशवासियों को बचाने के लिए भारत सरकार हर संभव प्रयास कर रही है। अलग-अलग देशों मे रहने वाले भारतीय मूल के निवासियों को मोदी सरकार सुरक्षित भारत लाने को तत्पर है| इस बात का सबसे अच्छा उदाहरण ईरान मे फसे भारतीय हैं| अब तक कुल 389 भारतीय नागरिकों को भारत ले आया गया है| आज 53 भारतीयों का चौथा जत्था ईरान से भारत पहुंचा। 

विदेश मंत्री ने जताया आभार

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने इसकी जानकारी दी है। उन्होंने ट्वीट करके बताया कि 53 लोगों का जत्था भारत पहुंच गया है। इनमें 52 स्टूडेंट और एक शिक्षक शामिल हैं। विदेश मंत्री ने ईरान सरकार और वहां भारत के दूतावास को उनके प्रयासों के लिए शुक्रिया कहा है। ईरान से विमान दिल्ली पहुंचा और यहां से फिर जैसलमेर के लिए रवाना हुआ। आर्मी के आइसोलेशन वॉर्ड में सभी आने वालों की स्क्रीनिंग की जाएगी और इसके बाद जैसलमेर के क्वैरंटाइन में रखा जाएगा।

एक दिन पहले ही ईरान से 234 भारतीयों को भारत लाया गया है। उन्हें स्क्रीनिंग के बाद जैसलमेर के क्वैरंटाइन में रखा गया है। आज आने वाले लोगों को भी जैसलमेर के क्वैरंटाइन में ही रखा जा सकता है। भारत इससे पहले भी तीन बार लोगों को ईरान से भारत ला चुका है। तीसरे जत्थे में 131 स्टूडेंट और 103 श्रद्धालु थे। ईरान से 58 यात्रियों का पहला जत्था मंगलवार को भारत आया था।

ईरान सबसे अधिक कोरोना प्रभावित पश्चिम एशियाई देश

ईरान में शनिवार को इस खतरनाक वायरस से लगभग 100 लोगों की मौत हो गई। इसके साथ ही वहां का आंकड़ा 700 के करीब पहुंच गया है। देश में लगभग 13 हजार लोग कोरोना से संक्रमित हैं। पश्चिम एशिया में ईरान कोरोना वायरस से सबसे अधिक प्रभावित हुआ है।

ईरान के कई वरिष्ठ अधिकारी भी इसकी चपेट में आ चुके हैं। ईरान के शीर्ष नेता खोमैनी के सलाहकार भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। इससे पहले सऊदी अरब ने कोरोना वायरस के चलते अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर दो सप्ताह के लिए पाबंदी लगा दी है। खाड़ी देश भी दुनिया भर में फैले कोरोना वायरस की चपेट में हैं।ईरान सरकार का कहना यह भी है कि अमेरिका की तरफ से लगाए गए प्रतिबंधों की वजह से कोरोना से लड़ने में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •