पुराने रेल के डिब्बों को दोबारा इस्तेमाल करने की भारतीय रेल की अनोखी पहल

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

यकीनन, रेल हमारी लाइफलाइन है। इस बात में कोई संदेह नहीं है, कि बिना रेल हमारी ज़िंदगी अधूरी है। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि रेल डिब्बों का क्या होता है, जो अपनी सर्विस पूरी कर चुके होते हैं। चलिए आज हम आपको रेलवे के उन पुराने डिब्बों के बारे में बताने जा रहे हैं जिनका इस्तेमाल भारतीय रेल अब बेहद रोचक ढंग से कर रहा है ।

भारतीय रेल अपने यात्रियों को आधुनिक सुविधाएं और आरामदायक यात्रा प्रदान करने के लिए लगातार प्रयासरत है। इसके लिए देश भर में रेलवे स्टेशनों के पुनर्विकास और कायाकल्प का काम तेजी से चल रहा है। वहीं भारतीय रेल कई ऐसी अनोखी पहल भी कर रही है, जिसकी सरहाना की जा रही है। हाल ही में भारतीय रेल ने बेकार पड़े व इस्तेमाल ना किए जाने वाले ट्रेन के कोचो का इस्तेमाल बड़े ही रच्नात्मक रुप में किया है जिनका इस्तेमाल अब अन्य कार्यों के लिए किया जा रहा है।

भारतीय रेलवे पुराने और इस्तेमाल न किये जा रहे रेल डिब्बों का इस्तेमाल करने के अलग-अलग तरीके अपना रहा है। पुराने कोचेज को स्क्रैप में डालने की जगह उसे नए तरीके से तैयार किया जा रहा है। कहीं रेल डब्बे में दफ्तर बनाया जा रहा है, तो कहीं इसमें रेस्टोरेंट तैयार किया जा रहा है। इनमें से कई डिब्बों को स्कूल और कार्यालय के तौर पर भी इस्तेमाल कर रहा है।

भारतीय रेल पुराने डिब्बों में मामूली बदलाव कर उनको कार्य उपयोगी बना रही है। पटना से सटे पूर्व मध्य रेल के दानापुर कोचिंग डीपो में एक कोच को स्टाफ कैंटीन में बदल दिया है, वहीं कर्नाटक के मैसूर में भारतीय रेल द्वारा ट्रेन के दो कोच को क्लासरूम में तब्दील कर दिया है।

इसके अलावा राष्ट्रीय रेल संग्रहालय नई दिल्ली में ऑफिस बनाकर इनको बेहद रोचक ढंग से उपयोग में लाया जा रहा है। जो डब्बे पटरियों पर मुसाफिरों के लिए नहीं चलाए जा सकते हैं, उनका ये अनोखा इस्तेमाल लोगों को भी खूब पसंद आ रहा है। इस मामले में पुराने डब्बों में रेस्टोरेंट खोलने का प्रयोग सबसे अनोखा है। इस तरह का एक रेस्टोरेंट चेन्नई के रेल म्यूजियम में मौजूद है। रेल डब्बे को रेस्टोरेंट की शक्ल देने से लोगों के लिए भी यह आकर्षण का बड़ा केंद्र बना है। आम लोगों के लिए इस तरह के कई और रेस्टोरेंट कई शहरों में तैयार किए जा रहे हैं। पश्चिम बंगाल के कूच बिहार में ऐसा ही रेस्टोरेंट तैयार हो चुका है। जबकि जल्द ही इलाहाबाद रेलवे स्टेशन पर रेल कोच में रेस्टोरेंट तैयार किया जा रहा है। इस तरह के रेस्टोरेंट के आकर्षण को देखकर उम्मीद है कि जल्द कई बड़े शहरों के रेलवे स्टेशनों पर ऐसे रेस्टोरेंट नजर आएंगे।


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •