स्कॉर्पीन क्लास पनडुब्बी INS Vela को नौसेना ने किया लॉन्च

784857-ins-vela

दिन-प्रतिदिन भारतीय नौसेना की शक्तियाँ परवान चढ़ती जा रही है| सोमवार को उस वक़्त नौसेना की ताकत और भी ज्यादा तब बढ़ गई जब मुंबई में स्कॉर्पीन क्लास की पनडुब्बी Vela को लॉन्च किया गया| मझगांव डोकयार्ड में इस पनडुब्बी को लॉन्च किया गया। देश में प्रोजेक्ट 75 के तहत लॉन्च की गई इस श्रेणी की यह चौथी पनडुब्बी है। इससे पहले इसी साल जनवरी महीने में नौसेना ने करंज को लॉन्च किया गया था। मालूम हो कि भारत कुल 6 स्कॉर्पीन पनडुब्बियों को पानी में उतारने वाला है| ‘वेला’ के लांच होने के बाद बाकी के बचे दो पनडुब्बियां, आइएनएस वागीर और आइएनएस वागशीर पर भी तीव्र गति से काम चल रहा है| और मिली खबर के अनुसार उसे भी जल्द ही पानी में उतारने की तैयारी है|

अब इसके लॉन्च होने के बाद समुद्र में परीक्षण शुरू होंगे। ख़ास बात यह है कि उन 6 स्कॉर्पीन क्लास सबमरीन में से एक है जिन्हें कलवरी क्लास के तहत भारत में बनाया जा रहा है। 2005 में हुई इस 3.75 बिलियन डॉलर की डील को प्रोजेक्ट 75 नाम दिया गया है। इस पूरे प्रोजेक्ट के 2020 तक पूरे हो जाने की उम्मीद की जा रही है।

गौरतलब है कि 13 दिसंबर, 2017 को प्रधानमंत्री मोदी ने आइएनएस कलवरी को देश के नाम समर्पित किया था। वहीं, खांदेरी पनडुब्बी को 12 जनवरी, 2017 को जबकि, 31 जनवरी 2018 को कंरज भी लॉन्च कर दी गई थी। आपको बता दें कि कलवरी, खंडेरी और करंज तीनो ही पनडुब्बियां आधुनिक फीचर्स से लैस है। जो दुश्मन की नजरों से बचकर सटीक निशाना लगा सकती हैं। इसके साथ ही यह पनडुब्बीयाँ टॉरपीडो और एंटी शिप मिसाइलों से हमले भी कर सकती हैं।

कैसी है स्कॉर्पीन श्रेणी की पनडुब्बी?

स्कॉर्पीन श्रेणी की तमाम पनडुब्बियां डीजल-इलेक्ट्रिक से चलने वाली पनडुब्बियों का एक वर्ग है, जिसे फ्रेंच डायरेक्शन डेस कंस्ट्रक्शंस नेवल्स (डीसीएन) और स्पैनिश कंपनी नवंतिया ने विकसित किया है। यह डीजल प्रपल्शन और एक अतिरिक्त एयर-इंडिपेंडेंट प्रपल्शन (एआईपी) होता है। इनके निर्माण में जिस तकनीक का उपयोग किया जाता है वो बेहतरीन स्टील्थ तकनीक होती है।

इसके तहत इसमें एडवांस एकॉस्टिक साइलेंसिंग तकनीक के अलावा कम रेडिएशन नॉइस, हाइड्रो डायनामिकल ऑप्टिमिस्म। इस क्लास की परडुब्बी विविध प्रकार के मिशन में हिस्सा ले सकती है जिसमें एंटी सर्फेस वॉर, एंटी सबमरीन वॉर, इंटेलीजेंस गैदरिंग, माइन लगाना आदि शामिल हैं।