जामा मस्जिद के शाही इमाम बुखारी ने दिया बड़ा बयान- CAA से भारतीय मुसलमानों को डरने की जरूरत नहीं

Shahi Imam Bukhari

देश की राजधानी में नागरिकता कानून के खिलाफ जारी विरोध प्रदर्शन के बीच जामा मस्जिद के शाही इमाम सैय्यद अहमद बुखारी ने नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी पर सरकार के समर्थन में एक बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि जो लोग इसका विरोध कर रहे हैं उन्हें अफवाहों से इतर हकीकत से रूबरू होने की जरूरत है।

दिल्ली के जामिया मिल्लिया इस्लामिया और सीलमपुर हिंसा के बाद बुधवार को जामा मस्जिद के शाही इमाम अहमद बुखारी सामने आए और नागरिकता कानून को लेकर अल्पसंख्यक समुदाय को आश्वस्त किया। उन्होंने कहा कि विरोध-प्रदर्शन करना भारत के लोगों का लोकतांत्रिक अधिकार है, कोई ऐसा करने से हमें नहीं रोक सकता।

हालांकि यह बहुत महत्वपूर्ण बात है कि यह प्रदर्शन नियंत्रण में किया जाए और हम अपनी भावनाओं पर नियंत्रण रखें। उन्होंने लोगों को नागरिकता कानून और एनआरसी के बारे में बताते हुए कहा कि नागरिकता संशोधन कानून(CAA) और राष्ट्रीय नागरिक पंजीकरण(NRC) में बहुत अंतर है। एक सीएए है जो कानून बन चुका है और दूसरा एनआरसी है जिसकी सिर्फ घोषणा हुई है और वह कानून नहीं बना है।

सैयद अहमद बुखारी ने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून के तहत मुस्लिम शरणार्थी जो पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश से भारत आएंगे उन्हें भारतीय नागरिकता नहीं मिलेगी। इसका उन मुसलमानों से कुछ लेना-देना नहीं है जो भारत में रह रहे हैं।

बता दें कि गृह मंत्री अमित शाह ने एक कार्यक्रम में फिर कहा कि नागरिकता संशोधन कानून से किसी को खासतौर से भारतीय मुसलमानों को डरने की जरूरत नहीं है। कुछ राजनीतिक दल खासतौर पर कांग्रेस भ्रम फैला रही है। जब उनसे पूछा गया कि बहुत से ऐसे राज्य हैं जिनका कहना है कि वो सीएए को लागू नहीं करेंगे। इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि सबको पता है कि यह केंद्र का कानून है, इस विषय पर सिर्फ राजनीति की जा रही है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी कहा है कि कांग्रेस देश के मुस्लिमों में भय का माहौल बना रही है। उन्होंने चुनौती दी कि नागरिकता बिल और एनआरसी पर विपक्षी पार्टियां झूठ बोल रही हैं और लोगों को भ्रमित कर रही है। प्रधानमंत्री ने चुनौती दी कि अगर हिम्मत है तो कांग्रेस खुलेआम यह ऐलान करे कि वह पाकिस्तान के हर नागरिक को भारत की नागरिकता देगी। वह घोषणा करे और भारत की जनता उनका हिसाब कर देगी।

पीएम मोदी ने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा, “ये लोग नागरिकता संशोधन कानून को लेकर झूठ बोलने लगे है। लोगों को डराने में लगे हैं। कांग्रेस और उसके साथियों ने भारत के मुसलमानों को डराने में पूरी ताकत झोंक दी है । ये लोग देश में झूठ और भ्रम का माहौल बना रहे हैं। लेकिन ये बात पत्थर की लकीर की तरह साफ है कि इस कानून से भारत के किसी भी नागरिक, भले ही वह हिंदू हो, मुसलमान हो, ईसाई हो या पारसी… किसी की नागरिकता पर असर नहीं पड़ेगा। और धीरे धीरे ये सच्चाई सभी लोगो के समझ में आ जाएगी।”