दुनियाभर मे भारत दवाइयां भेज रहा और पाकिस्तान आतंकवाद : आर्मी चीफ

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

एक ओर जहां भारत समेत पूरी दुनिया कोरोना के खिलाफ जंग में व्यस्त है, वहीं दूसरी ओर पाकिस्तान है जो इस संकट के घड़ी में भी अपनी नापाक हरकतों से बाज नहीं आ रहा है और भारत में आतंकवादियों की घुसपैठ कराने की लगातार कोशिशें कर रहा है। बीते कुछ समय से सीमा पार से हो रहे आतंकी गतिविधियों पर सेना प्रमुख मनोज मुकुंद नरवणे ने पाकिस्तान को आड़े हाथों लिया और कहा कि इस संकट के दौर में हम दुनियाभर में मेडिकल टीमें और दवाएं भेज कर मदद कर रहे हैं, मगर पाकिस्तान आतंकवाद का निर्यात कर रहा है। 

हम दुनिया की मदद कर रहे हैं

सेनाध्यक्ष ने शुक्रवार को न्यूज एजेंसी से बातचीत की। एक सवाल के जवाब में कहा, “यह मुश्किल वक्त है। हम अपने नागरिकों की मदद कर रहे हैं। दुनिया के जरूरतमंद देशों को दवाईयां निर्यात कर रहे हैं। दूसरी तरफ, पाकिस्तान अब भी सिर्फ टेरर एक्सपोर्ट में व्यस्त है।” 

जम्मू-कश्मीर दौर पर आर्मी चीफ

जनरल नरवणे शुक्रवार को जम्मू-कश्मीर पहुंचे। यहां उन्होंने अफसरों के साथ एलओसी के हालात का जायजा लिया। इस दौरान कहा, “यह बेहद अफसोस की बात है कि पूरी दुनिया और भारत एकजुट होकर महामारी का मुकाबला कर रहे हैं। इसी दौरान हमारा पड़ोसी साजिश रचने से बाज नहीं आ रहा। वो हमारे लिए मुश्किल पैदा करना चाहता है।”

सीजफायर का उल्लंघन

हाल के दिनों में पाकिस्तान ने घुसपैठ के लिए कई बार संघर्ष विराम का उल्लंघन किया। 1 अप्रैल भारतीय सेना ने पीओके के दुंधियाल एरिया में मौजूद आतंकियों के लॉन्च पैड्स को तबाह कर दिया। केरन सेक्टर में पाकिस्तानी सेना के कवर फायर की आड़ में घुसपैठ कर रहे पांच आतंकी मार गिराए गए।  

पाकिस्तान ने फिर किया संघर्ष विराम का उल्लंघन

जम्मू-कश्मीर के पुंछ सेक्टर में शुक्रवार दोपहर पाकिस्तान ने फिर फायरिंग की। इस दौरान गोले भी दागे गए। न्यूज एजेंसी से बातचीत में रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता कर्नल देवेंद्र आनंद ने इसकी पुष्टि की। कहा, “शुक्रवार दोपहर करीब 11 बजे पाकिस्तान की तरफ से फायरिंग की गई। इस दौरान मोर्टार भी दागे गए। यह घटना पुंछ के किरनी और कस्बा सेक्टर में हुई। भारतीय सेना जवाबी कार्रवाई कर रही है।” सेना की बम डिस्पोजल यूनिट ने मेंढर इलाके में करीब 12 मोर्टार डिफ्यूज किए। बुधवार को हुई फायरिंग में एक बुजुर्ग घायल हुए। चार मकानों को भी नुकसान पहुंचा।  

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •