भारतीय वायु सेना देश के बाहर व भीतर किसी भी खतरे के लिये तैयार : एयर वाइस मार्शल

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

कोरोना वायरस को रोकने के लिए लगाए गए लॉकडॉउन के बीच एयर वाइस मार्शल सूरत सिंह, सहायक चीफ ऑफ एयर स्टाफ ऑपरेशंस (स्पेस) ने कहा है कि हम देश के भीतर और बाहर किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार हैं। हमने नेपाल में भी सामग्री की सप्लाई की है। सूतर सिंह ने कहा कि अपने लोगों को वापस लाने के लिए हमने पहले अपना विमान वुहान और फिर ईरान भेजा था। 

गौरतलब है कि भारत ने विदेश मे फसे अपने नागरिकों के लिये भारतीय वायु सेना के मालवाहक जहाज सी-17 ग्लोबमास्टर (C-17 Globemaster) का बखूबी उपयोग किया था |

उन्होंने आगे कहा कि हमने ऑपरेशन संजीवनी के तहत मालदीव में चिकित्सा आपूर्ति के लिए भी एयरक्राफ्ट भेजा था। बता दें कि लॉकडाउन के बीच देशभर में जरूरी सामानों की आपूर्ति के लिए वायुसेना की मदद ली जा रही है। खासकर दवाओं और जरूरी सामानों को दूर दराज के इलाकों में पहुंचाने कि लिए वायुसेना के मालवाहक विमान लगे हुए हैं।

बुधवार को कोरोना मरीजों की संख्या पांच हजार के पार

स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक देश में कोरोना वायरस के संक्रमण के मामले बुधवार को बढ़कर 5194 हो गए जबकि इससे हुयी मौत का आंकड़ा 149 पर पहुंच गया है। स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने नियमित संवाददाता सम्मेलन में बताया कि मंगलवार से कोरोना संक्रमण के 773 मामले सामने आए और इस दौरान 32 लोगों की मौत हुई है। अग्रवाल ने संक्रमण की गति को रोकने के लिए लागू लॉकडाउन को प्रभावी बताते हुए कहा कि संक्रमण को रोकने के लिए राष्ट्रीय स्तर पर विभिन्न मंत्रालयों और विभागों के सहयोग से स्थानीय लोगों को इस संक्रामक बीमारी के बारे में जागरुक करने तथा चिकित्सा उपायों को प्रभावी बनाने पर जोर दिया जा रहा है। 

देश में अब तक 1,21,271 परीक्षण

वहीं, भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के वैज्ञानिक रमन आर गंगाखेडकर ने बताया कि देश में अब तक कोरोना संक्रमण की जांच के लिए 1,21,271 परीक्षण हो चुके हैं। इनमें पिछले 24 घंटों के दौरान किये गये 13,345 परीक्षण शामिल हैं। उन्होंने बताया कि देश में आईसीएमआर की प्रयोगशालाएं बढ़कर 139 हो गई हैं जबकि निजी क्षेत्र की 65 प्रयोगशालाओं को भी कोविड-19 के परीक्षण करने की मंजूरी दे दी गई है।  

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •