भारतीय वायुसेना को सितम्बर में मिलेगा स्पाइस-2000 का एडवांस वर्जन

advanced version of Spice-2000

सितम्बर 2019 के महीने में मोदी सरकार द्वारा भारत की वायुसेना को एक बहुत बड़ी सौगात मिलने वाली है| इजराइल के साथ हुई करीब 300 करोड़ की डील के मुताबिक भारत को स्पाइस-2000 की डिलीवरी सितम्बर के महीने में होने वाली है|

IndiaFirst ने पहले भी अपने पाठकों को भारत और इजराइल के बीच स्पाइस 2000 के लिए हुए सौदे के बारें में सूचित किया था| इस खबर को पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें:

बालाकोट में तबाही मचाने वाले 100 नए स्पाइस बम से लैस होगी भारतीय वायुसेना

स्पाइस-2000 को बिल्डिंग ब्लास्टर कहा जाता है

Spice-2000हम अपने पाठकों को बता दें कि स्पाइस-2000 को बिल्डिंग ब्लास्टर कहा जाता है| SPICE (Smart, Precise Impact, Cost-Effective), इजराइल की राफेल एडवांस्ड डिफेन्स सिस्टम्स द्वारा निर्मित एक गाइडेंस किट है, जिसे इलेक्ट्रो-ऑप्टिक्स तथा जीपीएस के द्वारा निर्देशित किया जाता है|

उल्लेखनीय है कि स्पाइस-2000 एक बम नहीं, बल्कि हवा से गिराए जाने वाले दिशाहीन बम को अचूक दिशा प्रदान करने वाला एक किट है| इसके साथ एक अलग वारहेड होता है जिसमे क्षमता के अनुसार विस्फोटक का उपयोग होता है| भारत ने MK 84 वारहेड वाले स्पाइस 2000 वैरिएंट खरीदने का करार किया था, जिसमे 900 किलो तक का विस्फोटक ले जाने की क्षमता है|

मोदी और नेतन्याहू के बीच मुलाकात के दौरान होगी आपूर्ति

बता दें कि सितंबर में इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू भारत के दौरे पर आने वाले हैं| इस दौरान बेंजामिन नेतन्याहू और भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मुलाकात होगी| नेतन्याहू के इसी दौरे के दौरान इजरायल भारतीय वायुसेना को स्पाइस 2000 के एडवांस्ड वर्जन की आपूर्ति करेगा|

बालाकोट में हुआ था स्पाइस 2000 का उपयोग

भारतीय वायुसेना द्वारा बालाकोट में हुए एयर स्ट्राइक के दौरान भारत ने इन्हीं स्पाइस-2000 गाइडेड किट का उपयोग अपने बमों के साथ किया था जिसके चलते वायुसेना की मारक क्षमता अचूक हो गयी थी| अब इसके एडवांस्ड वर्जन के वायुसेना में शामिल होने के साथ ही वायुसेना की मारक क्षमता और भी अचूक हो जाएगी|