भारत के पास होगा ऐसा अस्त्र, जो दुश्मन के हर मंसूबे को कर देगा ध्वस्त

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

कहते हैं कि जिसके दुश्मन आपस में दोस्त हो जाये उसे और भी सचेत रहना चाहिए भारत कुछ ऐसा ही सोच रहा है। क्योंकि चीन पाकिस्तान की दोस्ती कुछ इसी ओर इसारा कर रही है। वैसे तो पाकिस्तान के पास इतना दम नही कि वो भारत से लोहा ले सके लेकिन चीन के दम पर वो भारत के खिलाफ हमेशा जुबान खोलते रहता है। इसी क्रम में चीन अब पाकिस्तान को कुछ ड्रोन विमान देने वाला है। हालांकि भारत ने भी इसके लिए कमर कस ली है और आने वाले दिनो में भारत के पास भी दुनिया का सबसे खतरनाक MQ-9 रीपर ड्रोन होगा, क्योंकि भारत इसे• अमेरिका से खरीदने जा रहा है।

हैरतअंगेज तरीके से दुश्मन का करता है काम तमाम

साल 2020 शुरू होते ही अमेरिका के इस ड्रोन ने ऐसा काम किया था कि पूरी दुनिया हैरान रह गई थी। ये ड्रोन पहले तो ईरान के अंदर पहुंचा, ईरानी रडार इसे पकड़ तक नहीं पाए, फिर ये बगदाद एयरपोर्ट के आकाश पर बहुत ऊपर मंडराता रहा ताकि जनरल सुलेमानी पर हमला कर सके, जैसे ही जनरल सुनेमानी बगदाद एयरपोर्ट से निकलकर अपनी कार पर बैठने जा रहे थे, इसने नीचे की ओर आकर ऐसा हमला किया कि सुलेमानी की कार के परखच्चे उड़ गए और ये कारनामा MQ-9 का ही था, अमेरिका की माने तो MQ-9 रीपर एक सशस्त्र, कई तरह के कामों में माहिर, मध्यम ऊंचाई वाला ऐसा ताकतवर ड्रोन है, जो हवा में लंबे समय तक उड़ान भरने की क्षमता रखता है। यह 1,150 मील की दूरी और 50,000 फीट की ऊंचाई पर उड़ान भर सकता है। इसे इस तरह डिजाइन किया गया है कि लंबी दूरी की उन जगहों पर जहां अमेरिकी वायुसेना नहीं पहुंच पाए, वहां इससे काम लिया जा सके।

सटीक हथियार लेकर चल सकता है

इस ड्रोन में बड़ी रेंज को कवर करने वाले सेंसर, मल्टी-मोड संचार सूट और सटीक हथियारों के साथ काम करने की क्षमता होती है। ये कम समय में संवेदनशील लक्ष्यों पर अचूक हमला कर सकता है, इसे दूर से भी कंट्रोल किया जा सकता है। वैसे इस ड्रोन में एक पायलट और सेंसर ऑपरेटर के बैठने की जगह है। ये ड्रोन 4,900 पाउंड वजन का होता है. इसमें 2,200 लीटर फ्यूल भरा जा सकता है, ये अपने साथ 4,760 किलो का वजन लेकर 230 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से उड़ सकता है। इस ड्रोन का इस्तेमाल निगरानी करने, तलाशी अभियान और राहत-बचाव मिशन में भी किया जाता है। अमेरिकी वायुसेना एमक्यू-9 रीपर ड्रोन का पिछले 13 सालों से इस्तेमाल कर रही है, इसके विंगस्पान की लंबाई 66 फुट है एक इस ड्रोन की कीमत 64.2 मिलियन डॉलर यानी 460 करोड़ 70 लाख 56 हजार 200 रुपये है। एमक्यू-9 रीपर ड्रोन मूवेबल टारगेट को सटीकता के साथ भेदने में सक्षम है, इससे हेलफायर मिसाइलों को आसानी से दागा जा सकता है।

मतलब साफ है कि भारत के पास ऐसे अस्त्र होंगे जो चीन की चालबाजी तो पाक कि बदनियती का जवाब तुरंत दे सके। वैसे भी भारत इसके साथ साथ रूस से भी कई तरह के हथियार खरीदने में लगा हुआ है और एक तरह से सभी से डील भी पक्की हो गई है। यानी की भारत पर बुरी नजर डालने वाले ये जान ले कि अगर जरा सा भी गलत कदम उन्होने उठाया तो फिर उनका अंजाम ऐसा होगा कि वो दुनिया के मानचित्र में अपने आपको खोजते रह जाएंगे।


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •