मोदी राज / सबसे मूल्यवान राष्ट्रीय ब्रांड रैंकिंग में भारत 7 वें स्थान पर

most valuable national brand

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारत सभी क्षेत्रों में लगातार प्रगति कर रहा है। ‘ब्रैंड फाइनेंस’ द्वारा 2019 की वार्षिक रिपोर्ट के अनुसार, भारत विश्व रैंकिंग सूची में सातवां सबसे मूल्यवान राष्ट्रीय ब्रांड बन गया है। रिपोर्ट बताती है कि भारत ने इस वर्ष दो स्थानों की छलांग लगाई है।

ndia ranked 7th in the most valuable national brand rankings

पिछले साल भारत इस लिस्ट में नवें स्थान पर था। एक साल में भारत की ब्रैंड वैल्यू बढ़कर 2,56,200 करोड़ डॉलर हो गई है। इस तरह भारत के ब्रैंड वैल्यू में 18 प्रतिशत का इजाफा हुआ है। ‘ब्रैंड फाइनेंस’ की ओर से जारी इस लिस्ट में संयुक्त राज्य अमेरिका अपनी नंबर एक की स्थिति को बनाए रखा हुआ है। इस लिस्ट में अमेरिका के बाद चीन, जर्मनी, जापान, ब्रिटेन, फ्रांस का स्थान है। चीन का इस साल अपने ब्रांड मूल्य में 40% की वृद्धि देखी गयी है, दूसरी ओर जर्मनी की ब्रांड वैल्यू में 5.7% की गिरावट के साथ तीसरे स्थान पर बना हुआ है। इसके अलावा, किसी भी नए ब्रांड ने शीर्ष 10 पदों में पदार्पण नहीं किया है।

किसी देश की ब्रैंड वैल्यू उस देश में अगले पांच साल में सभी ब्रैंड्स के प्रोडक्ट की बिक्री के अनुमान के आधार पर तय होती है। देश की जीडीपी को कुल आमदनी के तौर पर लिया जाता है।

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि वैश्विक वित्तीय संकट के बाद भी भारतीय अर्थव्यवस्था पर इसका ज्यदा असर नहीं पड़ा है। हालांकि, विनिर्माण और निर्माण दोनों क्षेत्रों में हाल ही में मंदी के कारण मौजूदा कम वृद्धि को गति देने के लिये भारत सरकार ने ‘मेक इन इंडिया’ और स्वच्छ भारत मिशन सहित दुनिया के मंच पर राष्ट्र के एक्सपोजर को बढ़ाने के लिए कई पहल शुरू की हैं।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जब से देश की बागडोर संभाली है, दुनियाभर में देश की साख मजबूत हुई है। मोदी राज में पिछले पांच वर्षों के दौरान अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भारत की तमाम रैंकिंग में सुधार हुआ है।

पिछले पांच वर्षों में भारत की कुछ अहम उपलब्धियां :

• विश्व डिजिटल प्रतिस्पर्धा रैंकिंग में चार पायदान की छलांग
• वैश्विक आर्थिक स्वतंत्रता सूचकांक में 17 पायदान की छलांग
• विश्व यात्रा पर्यटन प्रतिस्पर्धा सूचकांक में छह पायदान की छलांग
• भारत की ईज ऑफ ट्रैवल रैंकिंग में सुधार
• ईज ऑफ डूईंग बिजनेस में भारत ने लगाई 23 पायदान की छलांग
• ग्लोबल कंज्यूमर कॉन्फिडेंस सर्वे में टॉप पर भारत
• विश्व में सबसे तेजी से विकास करने वाले टॉप 10 शहरों में सभी भारत के

रिपोर्ट के अनुसार शीर्ष 10 में अन्य मूवर्स में कनाडा 7 वीं से 8 वीं, इटली 8 वें से 10 वें और दक्षिण कोरिया जो सूची में 10 वें स्थान से 9 वें स्थान पर है।

रिपोर्ट के अनुसार, जापान का ब्रांड मूल्य 26% बढ़कर 4.5 ट्रिलियन डॉलर हो गया है। यह अनुमान लगाने के बावजूद कि इसकी अर्थव्यवस्था वैश्विक मंदी के कारण प्रभावित होगी, जापान अपने ठोस उपभोक्ता खर्च और उच्च स्तर के व्यावसायिक निवेश से लाभ प्राप्त करने में सक्षम है। रिपोर्ट बताती है कि “एशिया की तकनीकी सुपरपावर अर्थव्यवस्था के रूप में, जापान हमेशा आगे की सोच और वैश्विक अनिश्चितता के बीच खुद की रक्षा कर रहा है।

ब्रांड फाइनेंस के सीईओ ने यह भी कहा कि “जापान तेजी से एक पर्यटन केंद्र बन रहा है, जिसमें हर साल लाखों लोग इसकी संस्कृति को देखने और जानने के लिए पूरे देश में पर्यटक आते हैं। जापान वर्तमान में 2019 रग्बी विश्व कप और अगली गर्मियों में टोक्यो 2020 ओलंपिक की मेजबानी कर रहा हैं, इसमें कोई संदेह नहीं है कि हम भविष्य में जापान की ब्रांड ताकत में और भी अधिक वृद्धि देखेंगे।”

तुर्की ने 2018 में अपने प्रदर्शन से एक उल्लेखनीय बदलाव दर्ज किया है, जो अपने राष्ट्र ब्रांड मूल्य के लगभग एक तिहाई के नुकसान से जा रहा है, इस साल 47 प्रतिशत तक बढ़कर 560 बिलियन डॉलर हो गया है। राष्ट्र मंदी की स्थिति से वापस आ गया है और लीरा के मूल्य में तेज गिरावट आई है, जिसने 2018 की दूसरी छमाही में अर्थव्यवस्था को प्रभावित किया था ।

Image Source – Google