भारत अब बदल चुका है जिसकी झलक दिखने लगी है

नये भारत की झलक अब दिखने लगी है तभी तो विश्व भारत का लोहा मान रहा है तो भारत के दुश्मन ये भी समझ चुके है कि भारत अब कठोर कार्यवाही से पीछे नही हटने वाला है। तभी तो महज एक दिन में पाकिस्तान जैसा बैरी वायुसेना के जवान अभिनंदन छोड़ देता है तो दूसरी तरफ नक्सली पकड़े गये कोबरा कमांडो जवान को मुक्त कर देते है। लेकिन इन सब के बीच कुछ लोग नक्सलियों को वैसे ही दिखा रहे है जैसे अभिनंदन के छोड़े जाने पर पाक को दिखाया जा रहा था यानी की एक हीरो की तरह जो पूरी तरह से गलत है क्योकि अगर वो इन्हे छोड़ते नही तो अंजाम अच्छी तरह से वो जानते थे।

Kidnapped CoBRA jawan Rakeshwar Singh Manhas released by Naxals | The News  Minute

22 जवानों की शाहदत सरकार को याद है

नक्सलियों ने कोबरा कमांडो राकेश्वर सिंह को रिहा कर दिया है बेहद खुशी की बात है लेकिन कुछ लोग इसे नक्सलियों की उदारता दिखाकर कही न कही देश के जवानों की शहादत को बदनाम कर रहे है। नक्सलियों ने जवान का रिहा करना कोई उदारता नही बल्कि उनकी मजबूरी थी क्योकि वो अच्छी तरह से जानते थे कि अगर जवान को कोई नुकसान पहुंचाते है तो ये नया भारत है और बदला लेने में बहुत माहिर भी है। ये डर ही बताता है कि सीमा पार आतंकी हो या फिर नक्सली दोनो ही कही न कही दहशत में रहते है हालाकि कई महीनो बाद नक्सलियों द्वारा इतना बड़ा हमाला हुआ लेकिन देस के लोगो को इस हमले में शहीद हुए जवानो की शहादत नही भूलनी चाहिये और ध्यान रखना चाहिये कि सरकार ने भी बोल दिया है कि इसका बदला जरूर लिया जायेगा। ऐसे में नक्सलियों को उदार दिखा कर कुछ लोग जो सियासत कर रहे है उन्हे समझ लेना चाहिये की अब नये भारत में उनकी दाल नही गलने वाली।

नये भारत की ताकत को दिखाता है जवान की रिहाई

पाक से अभिनंदन का आना या फिर नक्सलियों द्वारा राकेश्वर सिंह को छोड़ा जाना ये बताता है कि अब भारत बदल चुका है। अगर इसके पीचे की वजह पूछी जाये तो मैं तो यही कहूंगा की जिस तरह से केंद्र सरकार ने देश के भीतर और बाहर दोनो मामलो में देशहित को ध्यान में रखकर फैसला किया है ये उसी का नतीजा है आज दुश्मन मुल्क हो या घर में बैठे दुश्मन वो अंजाम से डरते है। तभी तो चीन सीमा से पीछे हटता है तो देश में चौकस सुरक्षा व्यवस्था के चलते आज आंतकी हमला कोसो दूर की बात हो गई है। वही नक्सल हिंसा का दायरा भी सीमित हो चुका है। नार्थ ईस्ट से आंतक एक तरह से खत्म हो चुका है और वहां एक नया युग शुरू हो गया है। मोदी सरकार से पहले की सरकारो में ऐसा देखने को कभी मिला ही नहीं जब बिना डील के इस तरह कोई जवान छोड़ा गया हो।

पर अब हम ये बोल सकते है कि भारत बदल चुका है जिसकी छवि दिखने भी लगी है। ऐसे में साफ दिख रहा है कि आने वाले दिनो में भारत विश्व में सबसे मजबूत आत्मनिर्भर देश बनकर उभरेगा।