भारत-फ्रांस संयुक्त युद्धाभ्यास 31 अक्टूबर से होगा शुरू

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

India-France joint exercise | PC - Twitter ANI

भारत और फ्रांस के बीच विभिन्न क्षेत्रों में सहयोग नई ऊंचाइयों को छू रहा है। रक्षा व सैन्य क्षेत्र में भी दोनों देशों के बीच विगत कुछ वर्षों में सहयोग कई गुना बढ़ा है। आतंकवाद के खिलाफ जंग में भी फ्रांस भारत का स्वावभाविक साझीदार है और इसी कड़ी में दोनों देश युद्धाभ्यास ‘शक्ति 2019‘ के तहत अपनी सैन्य क्षमताओं का प्रदर्शन करेंगे।

भारत और फ्रांस के बीच मजबूत सैन्य साझेदारी को दर्शाने वाला यह संयुक्त युद्धाभ्यास 31 अक्टूबर से शुरू होगा, जो दो सप्ताह तक चलेगा। यह युद्धाभ्या्स राजस्थाान में पोखरण के महाजन फील्ड फायरिंग रेंज में होगा, जिसके लिए तैयारियां शुरू हो गई हैं। भारतीय सेना की सिख रेजीमेंट के जवान इसके लिए पूरी तरह तैयार हैं।

भारत और फ्रांस के बीच 31 अक्टूबर से 13 नवंबर 2019 तक चलने वाले इस संयुक्त सैन्य अभ्यास में दोनों देशों की सेना हिस्साा लेगी। भारत की ओर से इसमें सप्त शक्ति कमांड के अधीन सिख रेजिमेंट और 6 आर्म्ड बिग्रेड की 21 मेरीन इंफेंट्री रेजिमेंट के जवान व अधिकारी हिस्सा लेंगे। फ्रांसीसी सेना का प्रतिनिधित्व फ्रांसीसी सेना के 6वें बख्तरबंद ब्रिगेड की 21वीं समुद्री इंफेंट्री रेजिमेंट के सैनिकों द्वारा किया जाएगा। इस युद्धाभ्यास में आधुनिक हथियारों का इस्तेमाल किया जाएगा। भारत और फ्रांस के बीच इससे पहले भी 2016 में यहां शक्ति युद्भ्यास हो चुका है।

इस संयुक्त सैन्य अभ्यास का मुख्य फोकस आतंकवाद है, जिसे लेकर भारत हमेशा पाकिस्तान को घेरता रहा है और अंतरराष्ट्रीय समुदाय भी उसे सवालों के घेरे में खड़ा करता है। सेना के प्रवक्ता कर्नल संबित घोष के मुताबिक, भारत और फ्रांस के बीच यह संयुक्त सैन्याभ्यास आंतकवाद विरोधी अभियानों पर केंद्रित होगा। इस बार के संयुक्त अभ्यास के दौरान अर्ध-रेगिस्तानी इलाके की पृष्ठभूमि में आतंकवाद का मुकाबला करने से जुड़े अभियानों पर फोकस किया जाएगा। प्रशिक्षण के दौरान मुख्येत: बेहतरीन शारीरिक फिटनेस, सामरिक स्तर पर ड्रिल को साझा करने और एक-दूसरे से सर्वोत्तम प्रथाओं को सीखने पर फोकस किया जाएगा।

इस अभ्यास का मुख्य उद्देश्य दोनों सेनाओं के बीच आपसी समझ, सहयोग और संचालन को बढ़ाना है। इस अभ्या‍स का समापन 36 घंटे चलने वाले एक अभियान से होगा जिसमें किसी गांव-ठिकाने में छिपे आतंकवादियों को ढूंढ कर उनको निष्क्रिय करना होगा।

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •