कोरोना के खिलाफ जंग में भारत ने रचा इतिहास, न्यूज़ीलैंड जैसे दो देशों की आबादी के बराबर किया एक दिन में टीकाकरण

जब देश में कोरोना के खिलाफ टीकाकरण अभियान शुरू हुआ तो बहुत लोगों ने इस अभियान में खामियाँ गिनाना शुरू कर दिया और बोला कि इस अभियान से सरकार चलेगी तो देश में वैक्सीनेशन का काम बहुत धीमा होगा। लेकिन सरकार को विश्वास था कि वो ठीक तरफ चल रही है। इसका परिणाम भी उसे दिखने लगा और इसी क्रम में भारत ने 27 अगस्त 2021 को एक इतिहास रच दिया जब देश भर में एक दिन के भीतर 1 करोड़ से ज्यादा लोगों का टीकाकरण हुआ। जी हां एक करोड़ यानी न्यूजीलैंड जैसे दो देश के साथ क़तर और भूटान जैसे देशो की आबादी को भारत एक दिन में ही टीकाकरण कर रही है जिससे ये साफ होता है कि भारत की वैक्सीनेशन की स्पीड बहुत तेज है।

भारत ने रचा इतिहास, हर भारतीय के लिये गर्व की बात

वैसे अगर देखा जाये तो कोरोना काल में जिस स्पीड से काम हो रहा है हर दिन कोई ना कोई इतिहास बन रहा है फिर वो वैक्सीन बनाने का मामला हो या फिर लगाने का हर कदम में भारत तेजी से कोरोना को हराने में लगा है जिसका नतीजा ये हुआ है कि भारत ने 1 दिन में एक करोड़ लोगों के टीका लगाया। वहीं टीकाकरण से संबंधित राष्ट्रीय तकनीकी सलाहकार समूह यानी एनटीएजीआई के कोविड-19 कार्यकारी समूह के अध्यक्ष डा. एनके अरोड़ा ने कहा कि एक ही दिन में COVID-19 रोधी टीकों की एक करोड़ खुराक देना भारतीय स्वास्थ्य प्रणाली के लिए गर्व की बात है। देश में 63 हजार टीकाकरण केंद्रों के साथ हम कोरोना रोधी वैक्सीन की एक करोड़ से अधिक खुराक देने में सक्षम हैं। हम एक ही दिन में स्विट्जरलैंड और स्कैंडिनेवियाई देशों का टीकाकरण कर सकते हैं। इस मुकाम को हासिल करने के लिए निजी क्षेत्र समेत देश भर के सभी फ्रंटलाइन वर्कर्स, नर्स, डॉक्टर और हेल्थकेयर प्रोवाइडर्स को बधाई भी दी गई। इसके साथ ही भारत में करीब 62 करोड़ से अधिक लोगों का अब टीकाकरण भी हो चुका है।

पीएम मोदी ने बड़ी उपलब्धि बताया

पीएम मोदी ने इसे एक बड़ी उपलब्धि बताया है। उन्‍होंने ट्वीट में लिखा आज रिकॉर्ड टीकाकरण हुआ! एक दिन में एक करोड़ से ज्‍यादा लोगों का टीकाकरण एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है। टीका लगवाने वालों और टीकाकरण अभियान को सफल बनाने वालों को बधाई। इसमें कोई दो राय नहीं कि देश ने एक बड़ा मुकाम हुआ है लेकिन इसमें उत्तर प्रदेश की बड़ी भूमिका रही है। को-विन के आंकड़ों के मुताबिक शुक्रवार को उत्तर प्रदेश में सबसे ज्यादा 28.62 लाख डोज लगाई। इससे पहले उत्तर प्रदेश ने तीन अगस्त को करीब 29 लाख डोज लगाई थीं तो दूसरे नबंर में कर्नाटक रहा है जहां करीब 10 लाख से अधिक डोज लोगों को मिली। इसके बावजूद अभी भी राज्यों के पास करीब 4 करोड़ से ज्यादा डोज है जिससे यही संकेत मिलता है कि आने वाले दिनो में टीकाकरण अभियान और तेज देखा जा सकता है।

विश्व में इस बात को लेकर चर्चाए बहुत तेज थी कि इतनी बड़ी आबादी वाले देश भारत में टीकाकरण कैसे किया जायेगा लेकिन मोदी सरकार के पक्के इरादे ने ये दिखा दिया कि भारत एक दिन में कई छोटे देशों की आबादी से ज्यादा टीकाकरण करके भारत को इस जंग में काफी आगे खड़ा कर सकता है।