भारत,अमेरिका की करीबी और बढ़ी बस इसी बात से चीन की नींद उड़ी 

चीन से तनातनी के बीच भारत और अमेरिका के बीच एक और मजबूत रिश्ते का आगाज हुआ है। 2+2 बैठक के लिये भारत आये अमेरिका के रक्षा मंत्री और विदेश मंत्री ने देश के रक्षामंत्री और विदेश मंत्री से बात करने के एक बड़ी डील हुई है। भारत और अमेरिका ने बेसिक एक्‍सचेंज ऐंड कोऑपरेशन एग्रीमेंट फॉर जियोस्‍पेशियल कोऑपरेशन यानी BECA समझौते पर दस्तखत किया है। जिससे दोनो देश अब सूचना के आदान-प्रदान कर सकेंगे।

भारत अमेरिका एक दूसरे को सूचना करेंगे साझा   

बेसिक एक्‍सचेंज ऐंड कोऑपरेशन एग्रीमेंट फॉर जियोस्‍पेशियल कोऑपरेशन यानी BECA भारत और अमेरिका के बीच बेहद खास समझौता है। अमेरिका ऐसा समझौता अपने करीबी देशों के साथ ही करता है। चूंकि इससे बेहद संवेदनशील और क्‍लासिफाइड जानकारी साझा करने के रास्‍ते खुलते हैं, ऐसे में BECA काफी अहम हो जाता है।BECA  का मकसद नॉटिकल और एयरोनॉटिकल चार्ट्स समेत जियोस्‍पेशियल डेटा की साझेदारी है। एक बार समझौते पर हस्‍ताक्षर हो गए तो भारत को अमेरिका के सैटेलाइट्स से सटीक डेटा मिलेगा जिसका सैन्‍य इस्‍तेमाल हो सकता है। इसके अलावा मैप्‍स, नॉटिकल और एयरोनॉटिकल चार्ट्स, कॉमर्शियल व अन्‍य अनक्‍लासिफाइड इमेजरी, जियोडेटिक, जियो फिजिकल, जियो मैग्‍नेटिक और ग्रेविटी डेटा भी साझा होगा। डेटा शेयरिंग दोनों तरफ से होगी लेकिन BECA से भारत को फायदा ज्‍यादा है। उसे मिलिट्री ग्रेड डेटा का एक्‍सेस मिलेगा जिसकी मदद से टारगेट को सटीकता के साथ लोकेट किया जा सकता है। मसलन, मिलिट्री ग्रेड कोऑर्डिनेट्स से मिसाइलों या हवा में लॉन्‍च किए जाने वाले बमों को किसी आतंकी ठिकाने पर टारगेट किया जा सकता है, वह भी एकदम सटीक इसकी जानकारी मिलेगी।

अमेरिका की चीन, पाक को दो टूक

भारत दौरे पर आए अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने चीन को कड़ा संदेश देते हुए गलवान में शहीद हुए भारतीय जवानों को याद किया। पोम्‍पिओं ने अपनी संप्रभुता की रक्षा करने के प्रयासों में भारत के साथ हमेशा खड़े रहने का समर्थन करते हुए कहा कि चीन कभी भी लोकतांत्रिक व्यवस्था का मित्र नहीं रहा है। अमेरिका अपनी संप्रभुता और उसकी स्वतंत्रता की रक्षा के प्रयासों में भारत के साथ खड़ा रहेगा।”पोम्पिओ ने ये भी कहा कि वुहान से निकले वायरस की वैक्‍सीन के लिए दोनो देश काम कर रहे हैं। जिससे मानवता को बचाया जा सके। इतना ही नही विदेशमंत्री ने पाक पर भी निशाना साधा और साफ किया कि आतंकवाद को पाकिस्तान को खत्म करना पड़ेगा। जिससे शांति बन सके।

2+2 बैठक ने भारत और अमेरिका के बीच दोस्ती के नये आयाम छूने में एक और सीढ़ी चढ़ी है जो आने वाले दिनो में दोनो देशों की दोश्ती के लिये एक नया मुकाम साबित होगी। इसके साथ साथ भारत, अमेरिका के करीब आने चीन की दादागिरी पर भी ब्रेक लगेगा और रही बात पाकिस्तान की तो उनके बारे में तो अब हमारे पीएम बात तक नही करते इससे आप समझ गये होगे कि पाकिस्तान की औकात भारत अब क्या समझता है।