पहले 100 दिन में ही मोदी 2.0 ने भारत का परचम दुनिया भर में लहराया

100_days_of_Modi_2.0

पहली बार प्रधानमंत्री बनने के बाद से ही नरेन्द्र मोदी भारत का प्रभुत्व दुनिया भर में जमाने की कोशिश में लगे हैं| अपने पहले कार्यकाल में ही उन्होंने भारतीय अर्थव्यवस्था को स्थिर रूप देकर देश को सशक्त बना चुके हैं| इसी प्रयास को नयी दिशा देते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने अपनी कूटनीति और राजनीतिक सूझ बूझ से दुसरे कार्यकाल के 100 दिनों के अन्दर ही दुनिया भर में भारत के सामर्थ्य का परचम लहराया|

आइये जानते हैं मोदी 2.0 के वो फैसले, जिसने दुनिया में भारत का सर ऊँचा किया

first 100 days of Modi 2.0

अमेरिका को दिखाया अपना दम-ख़म

प्रधानमंत्री मोदी के दुसरे कार्यकाल के शुरुआत में ही अमेरिका और भारत के बीच के सामरिक और व्यापारिक रिश्तों में खटास की शुरुआत हुई थी| अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने भारत को मिलने वाले टैक्स छुट को समाप्त कर दिया और भारत पर प्रत्यक्ष दवाब डाला कि भारत रूस के साथ हुए S-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम खरीदने का करार रद्द कर दे| इसके जवाब में भारत ने भी अमेरिका से आयात होने वाली कई वस्तुओं पर टैक्स बढ़ा दिया, साथ ही रूस के साथ अपने सौदे को बरकरार रखा|

इसके अलावा पाकिस्तान और भारत के बीच कश्मीर के मुद्दे पर मध्यस्थता की राष्ट्रपति ट्रम्प की पेशकश को भारत ने सिरे से ख़ारिज कर दिया| साफ़ शब्दों में भारत ने कहा कि कश्मीर के मसले पर किसी तीसरे पक्ष की दखलन्दाजी भारत को बर्दाश्त नहीं| डोनाल्ड ट्रम्प को खुद अपने बयान से पीछे हटना पड़ा और अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने खुद इस बात का खंडन किया|

इन दोनों घटनाओं से भारत ने अपना पक्ष साफ़ कर दिया और अमेरिका को बता दिया की भारत अब किसी अन्य विकसित देश के साए में रहने वाला देश नहीं है, बल्कि भारत एक ऐसा देश बन चूका है जो सिर्फ एशिया में ही नहीं वैश्विक स्तर पर अपनी पहचान बना चूका है|

पाकिस्तान की दिखाई औकात

आतंकवाद के पोषक देश और भारत को अपना परम दुश्मन मानने वाले देश पाकिस्तान को मोदी सरकार ने शुरू से ही निशाने पर रखा| हालांकि पहली बार प्रधानमंत्री पद की शपथ लेने से पहले उन्होंने पाकिस्तान को समारोह में शामिल होने का निमंत्रण भी दिया था और अपनी तरफ से प्रयास किया की द्विपक्षीय बात-चीत के द्वारा दोनों देशों के बीच की मुश्किलों को समाप्त करके एक सौहार्दपूर्ण माहौल बनाया जा सके|

लेकिन जब पाकिस्तान आदतों से बाज नहीं आया तो पहले सर्जिकल स्ट्राइक और बाद में एयर स्ट्राइक कर भारत ने पाकिस्तान को औकात दिखाई| मसूद अजहर को आतंकी घोषित करने में भी भारत का योगदान था|
हालांकि ये सब मोदी के प्रथम कार्यकाल में ही हुआ था, लेकिन भारत के साफ़ दृष्टिकोण और पूर्व में मोदी की कुटनीति का ही असर था कि जब कश्मीर से आर्टिकल 370 को समाप्त करने का फैसला भारत की संसद ने लिया तो पाकिस्तान की पूरी दुनिया में किसी ने न सुनी|

आर्टिकल 370 ख़त्म होने के बाद शुरू तकरार में पाकिस्तान ने भारत से व्यापारिक रिश्तों पर रोक लगा दी लेकिन दूसरों के भरोसे चलने वाले देश पाकिस्तान की खुद की मुसीबत बढ़ गयी और फिर उसने दवाओं और जीवन रक्षक टीकों के ऊपर से लगी रोक हटा दी|

भयानक आर्थिक संकट झेल रहे पाकिस्तान को भारत ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इतना अलग थलग कर दिया कि अब FATF में उसके ऊपर ब्लैकलिस्ट होने का खतरा करीब करीब पक्का हो गया है|

मोदी ने अरब देशों को बनाया अपना मुरीद

दुसरे कार्यकाल में प्रधानमंत्री मोदी ने अरब देशों के साथ भारत के रिश्ते प्रगाढ़ किये| भारत को मिले व्यापारिक सुविधाओं के अलावा मोदी को संयुक्त अरब अमीरात (UAE) का सर्वोच्च नागरिक सम्मान, “जायद मैडल” और बहरीन का सर्वोच्च नागरिक सम्मान भी मिला| कश्मीर के मुद्दों पर की इन इस्लामिक देशों ने पाकिस्तान को कोई समर्थन नहीं दिया और भारत का साथ दिया|

रूस के साथ दोस्ती की नयी इबारत लिखी

दुसरे कार्यकाल में प्रधानमंत्री ने भारत के पुराने मित्र देश रूस के साथ दोस्ती की नयी इबारत लिखी| प्रधानमंत्री मोदी और रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन की दोस्ती अब जगजाहिर है| अमेरिका की धमकियों के बावजूद भारत रूस से अत्याधुनिक एयर डिफेंस सिस्टम S400 खरीद रहा है, इसके लिए कुछ दिन पहले ही एस400 की भारत ने पूरा भुगतान कर दिया है| अपने हालिया रूस दौरे पर प्रधानमंत्री मोदी ने रूस को एक अरब डॉलर की आर्थिक मदद देने का वादा किया और रूस से साथ कई प्रकार की व्यापारिक और सामरिक सौदे के मुद्दे पर सहमति बनाई| अब तक भारत की छवि विश्व में विकसित देशों से कर्ज लेने वाली थी, ये पहला मौका है जब भारत ने रूस जैसे बड़े देश को कर्ज दिया हो|

अन्य पड़ोसी देशों से कुटनीतिक रिश्तों को विस्तार

बड़े देशों के अलावा प्रधानमंत्री मोदी ने रणनीतिक दृष्टिकोण से महत्वपूर्ण छोटे पड़ोसी देशों से भी रिश्ते प्रगाढ़ किये हैं| मालदीव, श्रीलंका, भूटान जैसे देशों के साथ भारत के रिश्ते अपने सबसे अच्छे रूप में हैं|

अपने इन फैसलों और कुटनीतिक सूझ बूझ से मोदी ने प्रथम 100 दिनों में देश का परचम ऊँचा किया है|