अयोध्या में भगवान राम की सबसे ऊँची और भव्य मूर्ति बनने की रुपरेखा तय

Yogi Adityanath | PC - ANI Twitter

बीते 22 जुलाई को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक हाई पावर कमेटी की बैठक बुलाई जिसमे डिप्टी सीएम, कैबिनेट मंत्री, और प्रमुख सचिवों के साथ कई विभागों के अधिकारी भी मौजूद थे| इस बैठक की अध्यक्षता खुद मुख्यमंत्री योगी कर रहे थे, जिसका मुद्दा था भगवान राम की नगरी में उनकी भव्य और सबसे ऊँची प्रतिमा के स्थापना हेतु रूपरेखा तैयार करना|

100 एकड़ में भगवान की 251 मीटर लम्बी प्रतिमा

the framework of becoming the highest and grand statue of Lord Rama

मुख्यमंत्री योगी के अनुसार अयोध्या के सरयू नदी के किनारे की 100 हेक्टेयर की ज़मीन पर मर्यादा पुरुषोतम भगवान श्रीराम जी की विश्व की सबसे ऊंची प्रतिमा बनाई जाएगी, जिसकी लम्बाई 251 मीटर के करीब होगी| योगी ने सभी अधिकारीयों को निर्देश देते हुए कहा कि भगवान की मूर्ति स्थापना के कार्य को तेजी से पूरा किया जाये। इसके साथ ही अयोध्या के समग्र विकास की पूरी रूपरेखा जल्द से जल्द तैयार की जाये, जिसके अंतर्गत भगवान श्रीराम पर आधारित डिजिटल म्यूजियम, इंटरप्रेटेशन सेंटर, लाइब्रेरी, पार्किंग, फूड प्लाजा, लैंडस्केपिंग के साथ-साथ पर्यटको के लिए सभी प्रकार की सुविधा को भी सम्मिलित किया जाये|

मुख्यमंत्री करेंगे नए ट्रस्ट का गठन

बैठक में इस कार्य हेतु एक नए ट्रस्ट के गठन का भी प्रस्ताव तय किया गया| इस ट्रस्ट का गठन खुद मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में होगा और साथ ही ट्रस्ट का नाम और ट्रस्टी दोनों चुने जायेंगे| पहले से चयनित राजकीय निर्माण निगम के डिजाइन कंसलटेंट के पहले के सारे कामों को निरस्त कर दिया गया है, और बिल्कुल नए सिरे से ई.ओ.आई. व टी.ओ.आर. जारी किए जाने का अनुमोदन भी किया गया|

IIT कानपुर और गुजरात सरकार से ली जाएगी मदद

भगवन राम की भव्य प्रतिमा के परिकल्प, संरचना, बिडिंग कार्यवाही और निर्माण कार्य आदि के लिए राजकीय निर्माण निगम की अलग से एक इकाई तैयार की जाएगी| सरयू नदी के किनारे के हिस्से का हर जियोलाजिकल सर्वे, हाईड्रोलाजिकल सर्वे, सिस्मिक सर्वे, इनवायरमेंट असेसमेंट एंड फिजिबिलिटी स्टडी के लिए IIT कानपूर भी इसमें सहयोग करेगा| इसके साथ ही इस मूर्ति के स्थापना, मार्गदर्शन एवं तकनीकी सहायता के लिए गुजरात सरकार से भी मदद ली जाएगी जिसके लिए एम.ओ.यू. हस्ताक्षरित किया जाना है|

विश्व की सबसे ऊंची और भव्य होगी प्रतिमा

वर्तमान में विश्व में चीन के गौतम बुद्ध की प्रतिमा सबसे ऊँची है, जिसकी ऊंचाई है 208 मीटर है, हालाँकि मुंबई में निर्माणाधीन छत्रपति शिवाजी महाराज के प्रतिमा की ऊंचाई 212 मीटर है पर निर्माणाधीन होने के कारन इसकी गिनती नहीं की जाती है| पर भगवान राम के इस भव्य प्रतिमा के स्थापित होने के बाद ये विश्व की सबसे ऊँची ईमारत बन जाएगी।