2022 में राजधानी दिल्ली करेगा इंटरपोल महासभा की मेजबानी

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Interpol chief | PC - Google

स्वाधीनता की 75वीं वर्षगांठ के साथ ही भारत 2022 में इंटरपोल महासभा की मेजबानी भी करेगा। भारत ने स्वतंत्रता के प्लैटिनम जयंती समारोह वर्ष में राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में इंटरपोल महासभा की मेजबानी करने के लिए सफलतापूर्वक वोट हासिल किया। गृह मंत्रालय के अनुसार, गृह मंत्री अमित शाह ने इस साल 30 अगस्त को इंटरपोल महासभा की मेजबानी का प्रस्ताव इंटरपोल के महासचिव जर्गन स्टाक के समक्ष दिया था।

गृह मंत्रालय ने कहा, ‘भारत ने साल 2022 में भारतीय स्वतंत्रता दिवस की 75 वीं वर्षगांठ के जश्न के रूप में भारत में 91 वीं महासभा की मेजबानी के लिए हुए वोटिंग में जीत हासिल की है।’ बता दें कि भारत ने सिर्फ एक बार 1997 में इंटरपोल महासभा की मेजबानी की थी। शुक्रवार को संपन्न हुई इस साल की महासभा चिली के सैंटियागो में हुई थी।

Interpol General Assembly 2019 | PC: Googleसीबीआई निदेशक ऋषि कुमार शुक्ला ने चिली के सैंटियागो में चल रहे 88 वें इंटरपोल महासभा में अपने संक्षिप्त संबोधन में भारत की उम्मीदवारी का प्रस्ताव दिया था। इस आयोजन की मेजबानी के लिए भारत के प्रस्ताव के पक्ष में भारी बहुमत से मतदान हुआ।

गौरतलब है की इंटरपोल (अंतरराष्ट्रीय आपराधिक पुलिस संगठन) एक अंतर-सरकारी संगठन है, जिसमें भारत सहित 194 सदस्य देश हैं। फ्रांस के लियोन में इसका मुख्यालय है और इसका गठन 1923 में अंतरराष्ट्रीय आपराधिक पुलिस आयोग के रूप में किया गया था। 1956 में इसे इंटरपोल कहा जाने लगा। भारत 1949 में इसमें शामिल हुआ था।

इंटरपोल अपने सभी सदस्य देशों में पुलिस को एक साथ काम करने में मदद करता है। इतना ही नहीं, अपराधों और अपराधियों का डाटा साझा करने और कई तकनीकी सहायता प्रदान करता है। इंटरपोल की महासभा गवर्निग बॉडी है और महत्वपूर्ण मुद्दों पर निर्णय लेने के लिए सभी देशों की साल में एक बार बैठक करता है।

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •